ताइवान तथा चीन के बीच तनाव, लेकिन धमकियों से बेअसर ताइवान के लोग जा रहे हैं चीनी वॉरशिप देखने

Exclusive

पीएलए का मकसद ताइवान को दबाव में लेकर उस पर पूरी तरह से नियंत्रण लेना है। चीन ने इसी तरह की मिलिट्री ड्रिल साल 1995 और 1996 में भी की थी। ग्‍लोबल टाइम्‍स की तरफ से बताया गया है कि पीएलए एक महत्‍वपूर्ण मिलिट्री एक्‍सरसाइज और ट्रेनिंग एक्टिविटीज को भी अंजाम देगी। इसमें लाइव फायर ड्रिल्‍स होंगी जो 6 बड़े मैरिटाइम इलाके में की जाएंगी। साथ ही चीन की सेना रविवार तक ताइवान के एयरस्‍पेस को चारों तरफ से घेरेगी।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published.