आपकी स्किन को हमेशा जवां और युवा बनाए रखने में मदद कर सकता हैं पपीता

Health

झुर्रियां कम होना

पपीता लाइकोपीन जैसे एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होता है, जो उम्र बढ़ने के दिखने वाले संकेतों से बचाव कर सकता है। 2015 के एक अध्ययन में बताया गया था कि उम्र बढ़ने के साथ होने वाली त्वचा की अधिकांश क्षति और झुर्रियाँ एक्सेसिव फ्री रैडिकल्स की गतिविधियों के लिए जिम्मेदार हो सकती हैं। ऐसे में पपीता वातावरण में मौजूद फ्री रैडिकल्स से होने वाले नुकसान से लड़ने में मदद कर सकते हैं जो आपकी त्वचा को चिकना और युवा बनाए रखने में मदद कर सकते हैं।

मुंहासे का नियंत्रण

पपीते में मौजूद पपैन और काइमोपैन एंजाइम सूजन को कम कर सकते हैं। प्रोटीन में घुलने वाला पपैन कई एक्सफ़ोलीएटिंग उत्पादों में पाया जा सकता है। ये उत्पाद डेड स्किन सेल्स को हटाकर मुंहासों को कम करने में मदद करते हैं जो पोर्स को बंद कर सकते हैं। इसी के साथ पपैन त्वचा पर मौजूद केराटिन को भी हटा सकता है, जिससे छोटे धक्कों का निर्माण हो सकता है।

मेलास्मा उपचार

पपीता मेलास्मा के लिए एक लोकप्रिय घरेलू उपचार है। प्राकृतिक उपचार के समर्थकों का सुझाव है कि पपीते में एंजाइम, बीटा-कैरोटीन, विटामिन और फाइटोकेमिकल्स में त्वचा को हल्का करने वाले गुण होते हैं। इसके अलावा कोल्ड प्रेस्ड पपीते के बीज का तेल रोजाना लगाने से काले धब्बों को हल्का करने में मदद मिल सकती है और इसे ऑनलाइन खरीदा जा सकता है।

बालों की कंडीशनिंग

जानकारों की मानें तो, पपीते में मौजूद विटामिन ए आपके स्कैल्प को सीबम बनाने में मदद करके बालों पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं, जिससे उन्हें पोषण, मजबूती और सुरक्षा मिलती है।

पपीते का हेयर कंडीशनिंग मास्क

आप पपीते का एक हेयर कंडीशनिंग मास्क भी बना सकते हैं जिसमें 1/2 पका हुआ पपीता, 1/2 कप नारियल का तेल, 1 छोटा चम्मच शहद का कॉम्‍बीनेशन होना चाहिए।

मास्क को ऐसे करें इस्तेमाल

बालों को नम करने के लिए मास्क लगाएं और इसे 30 से 40 मिनट तक बैठने दें। फिर धो लें, शैम्पू करें और अपने बालों को सामान्य रूप से कंडीशन करें। यह डैंड्रफ कंट्रोल करने और डीप ट्रीटमेंट में भी मददगार है।

Compiled: up18 News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *