बड़ा करामाती था हमारा भारतीय मंगलयान, जो अपनी तयशुदा जिंदगी से 16 गुना ज्यादा जिया

Cover Story

ग्रहण ने मंगलयान की लील ली जिंदगी

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान यानी इसरो (ISRO) ने मंगलयान को सिर्फ छह महीने के लिए भेजा था, लेकिन वह 8 वर्ष 8 दिन जिंदा रहा। वो तो मंगल ग्रह पर इतने ग्रहण लगे कि मंगलयान बार-बार सूरज की रोशनी से महरूम हो जा रहा था। चूंकि इस भारतीय अंतरिक्षयान में लगी बैटरी बिना सूरज की रोशनी के 1 घंटे 40 मिनट से ज्यादा नहीं चल सकती थी इसलिए साढ़े सात घंटे के लंबे ग्रहण ने उसकी जान निकाल दी। एक न्यूज़ चैनल ने यह जानकारी इसरो के एक अधिकारी के हवाले से दी है। सोचिए, मंगल पर अगर इतना लंबा ग्रहण नहीं लगता तो हमारा मंगलयान और कितने दिनों तक जीवित रहता और हमें महत्वपूर्ण जानकारियों मुहैया करवाता रहता।

तब भारत ने बनाया था यह रिकॉर्ड

मंगलयान को 5 नवंबर 2013 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से ध्रुवीय प्रक्षेपण यान पीएसएलवी सी-25 से लॉन्च किया गया था जो 24 सितंबर 2014 को मंगल की कक्षा में पहुंचा था। उस दिन भारत के नाम यह रिकॉर्ड हासिल हो गया जिसने एक ही बार में अपने यान को सीधे मंगल ग्रह तक पहुंचाने में सफलता पाई थी।

विभिन्न सूत्रों से प्राप्‍त जानकारी के अनुसार अब मंगलयान से दोबारा संपर्क स्थापित कर पाना नामुमकिन ही है। इसरो के यूआर राव सैटलाइट सेंटर (URSC) के डायरेक्टर ने 27 सितंबर को भी यही बात कही थी। हालांकि, संस्था ने अब तक इसका औपचारिक ऐलान नहीं किया है।

बड़ा करामाती था हमारा मंगलयान

इसरो के एक और वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस वर्ष 2022 में मंगल पर बड़ा लंबा ग्रहण लगा था। वैसे तो सैटलाइट को ऐसा बनाया गया था कि वो ग्रहण के दायरे से खुद-ब-खुद बाहर निकल जाए। उसने बहुत बार ऐसा किया भी था लेकिन ग्रहण से रिकवरी के दौरान उसका ईंधन खत्म हो गया होगा।

उन्होंने बताया कि मंगलयान से संपर्क टूटने का एक कारण यह भी हो सकता है कि जब उसने ग्रहण के साये से निकलने के लिए दिशा बदलने के वक्त धरती की तरफ मुड़े एंटीना का मुंह भी दूसरी दिशा में चला गया होगा। मंगलयान में पांच पेलोड लगे थे जिन्होंने पहले साल 1टीबी डेटा जबकि पांच सालों में 5 टीबी डेटा भेजा था।

-Compiled by Up18 News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *