आगरा कॉलेज में “प्राथमिक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य” विषय पर दो दिवसीय व्याख्यानमाला का शुभारंभ

Press Release

प्राथमिक चिकित्सा में दक्ष घायल की बचा सकता है जान, आगरा कॉलेज में दी गयी जानकारी।

आगरा कॉलेज, आगरा में सोमवार को राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत स्नातक प्रथम वर्ष के द्वितीय सेमेस्टर में नया पाठ्यक्रम “प्राथमिक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य” विषय पर दो दिवसीय व्याख्यानमाला का शुभारंभ, महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ अनुराग शुक्ला ने मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर किया।

इस अवसर पर उन्होंने उपस्थित विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा, यदि किसी घायल व्यक्ति को तत्काल प्राथमिक उपचार मिल जाए तो चिकित्सक या अस्पताल तक पहुंचने से पूर्व ही उस व्यक्ति की जान बचाई जा सकती है। इसके लिए व्यक्ति का प्राथमिक चिकित्सा में प्रशिक्षित होना अति आवश्यक है।

आज के प्रथम सत्र में विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ ललित कुमार ने आंखों में होने वाली समस्या के विषय में विस्तार से प्रकाश डाला।

उन्होंने बताया कि आंखों में तिनका चले जाना, एसिड चले जाना या गर्म तेल चले जाने पर रोगी का आपात उपचार करना चाहिए और उसके बाद संबंधित चिकित्सक के पास लेकर जाना चाहिए।

द्वितीय सत्र में एसएन मेडिकल कॉलेज के न्यूरो सर्जरी विभाग में असिस्टेंट प्रो. डॉक्टर मयंक अग्रवाल ने हेड इंजरी के बारे में विस्तार से चर्चा करते हुए उसकी रोकथाम एवं प्राथमिक उपचार के विषय में प्रकाश डाला।

उन्होंने कहा कि यदि सड़क पर चलते समय होने वाली दुर्घटनाओं को थोड़ी सी सावधानी बरतकर हम रोक लेते हैं, तो हेड इंजरी की नौबत ही नहीं आएगी।

डॉ अंशुल सोलंकी ने प्राथमिक उपचार के कई सारे बिंदुओं को छूते हुए उनके रोकथाम एवं उपचार के विषय पर प्रकाश डाला, जिनमें हीट स्ट्रोक, रक्त स्राव, सांप का काटना, हड्डी का टूटना आदि सम्मिलित हैं।

उन्होंने पीपीटी के माध्यम से उदाहरण देते हुए छात्र छात्राओं को बताया कि प्राथमिक उपचार के लिए आवश्यक प्राथमिक किट प्रत्येक घर में तथा प्रत्येक वाहन में जरूर होनी चाहिए।

कार्यक्रम का संचालन डॉ अमित अग्रवाल ने किया। विशेषज्ञों का डॉ केपी तिवारी, डा नीरा शर्मा, डॉ अल्पना ओझा, डॉ अमित चौधरी, डॉ संध्या अग्रवाल, डॉ नितेश शर्मा, डॉ यशस्विता चौहान, डॉ प्रशांत पचौरी, डॉ अनिल कुमार आदि ने स्मृति चिन्ह एवं पौधा देकर सम्मान किया।

इस अवसर पर डा संध्या यादव, डा उमेश शुक्ला, डा अनुराधा नेगी, डा आशीष तेजस्वी, डॉ चंद्रवीर सिंह, डॉ आनंद शर्मा, राजीव सिंह आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

10 अगस्त को दूसरे दिन नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ कौस्तुभ साने विद्यार्थियों को प्राथमिक उपचार के संदर्भ में अपना व्याख्यान देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.