जरूरत से ज्यादा कैल्शियम का सेवन करने से भी हो सकता है कई बीमारियों का खतरा

Health

बॉडी में कैल्शियम की कमी होने पर बॉडी में उसके लक्षण दिखना शुरू हो जाते हैं। याददाश्त में कमी होना, कंफ्यूजन रहना, मांसपेशियों में ऐंठन और दर्द होना, हाथ-पैरों में सुन्नपन होना, मसल्स क्रेंप, हड्डियां और नाखून कमजोर होना बॉडी में कैल्शियम की कमी के संकेत हैं।

बॉडी के लिए जरूरी कैल्शियम की प्राप्ति के लिए लोग दूध, दही, छाछ, अंडा, मास, मछली, अंजीर, बादाम और हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करते हैं। भारत में ज्यादातर लोगों में कैल्शियम की कमी होने के मामले सामने आते हैं। कुछ लोग ऐसे हैं जो कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए धड़ल्ले से कैल्शियम रिच फूड्स का सेवन करते हैं। सप्लीमेंट के तौर पर दवाईयों का भी इस्तेमाल करते हैं, जिससे उनको कई बीमारियों का खतरा हो सकता है। आइए जानते हैं कि कैल्शियम का अधिक सेवन करने से बॉडी में किन बीमारियों का खतरा हो सकता है और इसकी कितनी मात्रा का सेवन बॉडी के लिए पर्याप्त है।

कैल्शियम का अधिक सेवन करने से बॉडी में किन बीमारियों का खतरा हो सकता है?

अगर आप भी अपनी मांसपेशियों और हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए बेहद कैल्शियम रिच फूड्स का सेवन करते हैं तो आपको हार्ट अटैक की समस्या, डिमेंशिया का खतरा और किडनी को नुकसान पहुंच सकता है।

बॉडी के लिए कितना कैल्शियम का सेवन करना पर्याप्त है?

बॉडी में कैल्शियम की जरूरत उम्र के मुताबिक बदलती रहती है।
बच्चों को रोजाना 1300 से 1500 मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत होती है।
पुरुषों को 1000 से 1200 ग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है।
महिलाओं को प्रतिदिन 1200 से लेकर 1500 मिलीग्राम कैल्शियम की दरकार होती है।
जबकि बुजुर्गों को 1200 से 1500 मिलीग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published.