क्या यही दिन देखने के लिए चुनी थी हमने सरकार ?

कोरोना वायरस से उपजी महामारी पूरे देश में कहर बरपा रही है। प्रतिदिन इसकी चपेट में आने वाले लोगों का आंकड़ा 2 लाख से ऊपर जा पहुंचा है। अस्‍पताल से लेकर बेड तक और दवाइयों से लेकर टेस्‍ट तक करने की व्‍यवस्‍था दम तोड़ती जा रही है। कई शहरों में तो लाशों के ढेर लगे […]

Continue Reading

तीरथ सिंह रावत के बयान पर आखिर इतना बवाल क्यों ?

संस्कार और सलवार-कमीज का गहरा नाता है. हमारे यहां लड़कियों की तमीज और तहजीब उनके कपड़ों से ही मापी जाती है। अगर किसी लड़की ने सलवार-कमीज पहन रखी है तो वो एक गुणी और सती-सावित्री लड़की होती है। हमारे देश में नेताओं और टॉप रैंक के ऑफिसर्स से लेकर सड़क पर खडे़ आम नागरिक की […]

Continue Reading

सवाल: राहुल गांधी इतने अहम समय में विदेश क्यों चले गए…?

राहुल गांधी इतने अहम समय में विदेश क्यों चले गए… ये एक ऐसा सवाल है जिसका जवाब देना कांग्रेस पार्टी के लिए अब थोड़ा मुश्किल होता जा रहा है?क्योंकि ये पहला मौक़ा नहीं है जब राहुल गाँधी ने अपने व्यक्तिगत जीवन को राजनीतिक जीवन से ज़्यादा तवज्जो दी हो. इससे पहले कई मौक़ों पर राहुल […]

Continue Reading

सुव्यवस्थित सिस्टम नहीं होने का खामियाजा भुगत रहे हैं हम…

चंडीगढ़ की प्रसिद्धि के दो प्रमुख कारण हैं। पहला कारण तो यह है कि एक आदर्श शहर है जिसे योजनाबद्ध ढंग से विकसित किया गया, जिसके कारण इसके लगभग हर सेक्टर में रोज़मर्रा की आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध हैं और यह एक छोटा-सा किंतु साफ और सुविधाजनक शहर है। इस कारण इसे भारत भर में जाना […]

Continue Reading

देश की राजनीति के लिए भविष्य की दिशा भी तय करेगा बंगाल चुनाव

बंगाल एक बार फिर चर्चा में है। गुरुदेव रबिन्द्रनाथ टैगोर, स्वामी विवेकानंद, सुभाष चंद्र बोस, औरोबिंदो घोष, बंकिमचन्द्र चैटर्जी जैसी महान विभूतियों के जीवन चरित्र की विरासत को अपनी भूमि में समेटे यह धरती आज अपनी सांस्कृतिक धरोहर नहीं बल्कि अपनी हिंसक राजनीति के कारण चर्चा में है। वैसे तो ममता बनर्जी के बंगाल की मुख्यमंत्री के […]

Continue Reading

भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी सही मायने में भारत रत्न ही थे

भारत माँ के सच्चे सपूत, राष्ट्र पुरुष, राष्ट्र मार्गदर्शक, सच्चे देशभक्त ना जाने कितनी उपाधियों से पुकार जाता था भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) को वो सही मायने में भारत रत्न थे। इन सबसे भी बढ़कर पंडित अटल बिहारी वाजपेयी जी एक अच्छे इंसान थे। जिन्होंने जमीन से जुड़े रहकर राजनीति की और […]

Continue Reading

राष्ट्रीय किसान दिवस की सार्थकता बेमानी सी लगती है…

विश्व में हर मानव अन्न के बिना जीवित रहने की कल्पना नहीं कर सकता| यहां तक की अन्न के बाई प्रॉडक्ट अन्य जीवों का भी आहार होता है| हम सभी जानते हैं की अन्न की आवश्यकता प्रत्येक दिन पड़ती है, जो किसान अपनी उपज से हमें जीने के लिए भोजन मुहैया कराते हैं इसीलिए किसानों […]

Continue Reading

कभी संसदीय बोर्ड की बैठक में सुषमा स्वराज ने पूछा था, “आखिर हम कब तक अमित शाह को ढोएंगे?”

आज अमित शाह एक चमकते सितारे हैं लेकिन उन्होंने बुरा वक़्त भी देखा है, वे जेल में रहे और उनके गुजरात जाने पर भी अदालत ने रोक लगा दी थी लेकिन अब वे कांग्रेस के राज में लगे आरोपों से बरी हो चुके हैं. कांग्रेस राज में भाजपा के अंदर भी ऐसे लोगों की कमी […]

Continue Reading

शब्दों की ऊर्जा और ध्वनि का मेल हमारे जीवन में लाता है कई परिवर्तन

कोरोना वायरस महामारी ने दुनिया भर में लोगों की भावनात्मक व मानसिक स्थिति पर गहरा असर डाला है। आज भागती-दौड़ती जिंदगी में अचानक लगे इस ब्रेक और कोरोना वायरस के डर ने लोगों के बीच चिंता, डर और अनिश्चितता का माहौल बन जाने के कारण लोग दिन-रात इससे जूझ रहे हैं। इस बीमारी ने स्वास्थ्य […]

Continue Reading

अंतर्राष्ट्रीय प्रवासी दिवस: प्रवासी ही है व‍िदेश में देश की छव‍ि के ध्वजवाहक

आज अंतर्राष्ट्रीय प्रवासी दिवस (International Migrant Day) है| इसके बारे में जानने से पहले हमें यह जानना आवश्यक है की प्रवासी का अर्थ क्या है ? एक देश के निवासी दूसरे देश में जाकर वहां रोजगार काम या व्यापार करते हैं तो वह व्यक्ति उस देश के लिए प्रवासी व्यक्ति कहलाता है । प्रवासी व्यक्तियों […]

Continue Reading