भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान जगबीर सिह का दावा – आगरा में अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम बने तो देंगे कई विश्व स्तरीय खिलाड़ी

SPORTS

एलएस बघेल, आगरा। भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान जगबीर सिह ने दावा किया है कि आगरा में अगर एक अंतरराष्ट्रीय हाकी स्टेडियम बन जाए तो वे राष्ट्र को कई ओलंपियन इस ताजनगरी से ही दे सकते हैं। वे आज यहां एकलव्य स्टेडियम में एस्ट्रोटर्फ मैदान पर बच्चों को हाकी गुर सिखा रहे थे। इसी दौरान बातचीत में पूर्व कप्तान ने ये दावा किया।

मूल रूप से आगरा के निवासी जगबीर सिंह ने इसी मैदान में हाकी का ककहरा सीखा था। यहां से खेलते हुए वे लखनऊ स्पोर्ट्स हास्टल पहुंचे। इसके बाद वे भारतीय हाकी टीम के कप्तान तक बने। उन्होंने अपने खेल के दम पर ताजनगरी के साथ ही प्रदेश ओर देश का नाम रोशन किया। अपने समय में वे भारतीय हाकी टीम के स्टार खिलाड़ी रहे। भारतीय हाकी टीम में सेंटर फारवर्ड के नाम से विख्यात थे। उन्होंने ओलंपिक और विश्व कप में भारतीय हाकी टीम का प्रतिनिधित्व किया। कप्तानी भी की। इसी दौरान इंडियन एयरलाइंस में नौकरी करने लगे।

विगत दो वर्षों से कोरोना के कारण उन्होंने प्रवास दिल्ली की जगह अपनी जन्मभूिम यानी आगरा को ही बना लिया। कोरोना का प्रकोप कम हो जाने के बाद वे अब एकलव्य स्टेडियम में भी आने लगे हैं। यहां पर वे बच्चों को हाकी गुर तो सिखाते ही हैं, साथ ही खुद भी टेनिस खेलकर अपनी फिजिकल फिटनेस को बनाए रखे हैं।

भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान कहते हैं एकलव्य स्टेडियम में जो एस्ट्रोटर्फ लगा है, वह छोटा है। इससे अंतरराष्ट्रीय हाकी मैच आगरा में नहीं कराए जा सकते हैं। इसलिए ताजनगरी में एक फुल साइज अंतरराष्ट्रीय मानकों वाला हाकी स्टेडियम होना चाहिए। इसके लिए वे खुद भी प्रदेश और राष्ट्रीय स्तर पर प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने इस संबंध में शासन को लिखापढ़ी भी की है। वे इस बात को लेकर गंभीर हैं कि आगरा में एक अंतरराष्ट्रीय स्तर का हाकी स्टेडियम होना चाहिए। जिससे कि आगरा के खिलाड़ी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नाम कमा सकें।

पदमश्री से सम्मानित ओलंपियन जगबीर सिंह का कहना है कि दुनियां के लगभग दो सौ देशों में हाकी खेली जाती है। इन देशों में भारतीय हाकी का नाम लेना ही काफी है। विगत 40 सालों में ओलंपिक में भारतीय हाकी टीम के कांस्य पदक जीतने के पश्चात तो भारतीय हाकी को और चार चांद लग गए हैं। दुनियां में नाम रोशन हुआ है। पूर्व कप्तान ने कहा कि इस जीत में हमारे देश के युवा हाकी खिलाड़ियों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इन्हीं खिलाड़ियों ने लखनऊ में विश्व कप जीता था। उनका मानना है कि भुवनेश्वर, उड़ीसा हाकी का हब बनता जा रहा है। यहां से भारतीय हाकी टीम के लिए अच्छे खिलाड़ी निकल रहे हैं।

इसी तरह श्री जगबीर सिंह आगरा में एक हाकी सेंटर बनाना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने जमीन की तलाश कर शासन को अवगत करा दिया है। उनका मानना है , एक्सप्रेस वे का पास जो ग्रेटर आगरा बन रहा है, वहां हाकी के लिए एक अंतरराष्ट्रीय स्टर का एस्ट्रोटर्फ वाला मैदान बना देना चाहिए। यहां के खिलाड़ियों को तैयार करने में वे कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। वे दावा कर रहे है कि अगर सरकार स्टेडियम बनवा दे तो वे आगरा का नाम विश्व पटल पर रोशन कर देंगे।

उनका मानना है कि आगरा में ताजमहल होने के कारण इसकी पहचान दुनियां में है। वैसे भी यह शहर देश की राजधानी के निकट भी है। इसलिए आवागमन की कोई समस्या नहीं है। दुनियां भर के लोग ताज देखने आते हैं, वे यहां खेलने भी आएंगे। अगर अंतरराष्ट्रीय स्तर का स्टेडियम बन जाए तो वे दुनियां के तमाम देशों के हाकी खिलाड़ियों को आगरा खेलने के लिए बुला सकते हैं। श्री जगबीर सिंह भारतीय हाकी के उत्थान के लिए गंभीर हैं। विशेषकर अपनी जन्मभूमि यानी कि ताजनगरी पर उनका विशेष फोकस है।

उनका मानना है कि वैसे तो भारत सरकार खेलों के उत्थान के लिए काफी प्रयास कर रही है। खेलो इंडिया के तहत टेलेंटेड खिलाड़ियों को स्कालरशिप दी जा रही है। जितनी भी राष्ट्रीय स्तर की टीमें तैयारी कर रही हैं, उनको टाप लेबल के कोच मुहैया कराये जा रहे हैं। खेल मंत्रालय और भारतीय खेल संघों के मध्य समन्वय बनाया जा रहा है। जिससे कि भारतीय खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय फलक पर देश का नाम रोशन कर सकें। इस समय भारतीय पुरुष हाकी के साथ ही महिला हाकी का भी दुनियां में एक महत्वपूर्ण स्थान है।

-up18 News

up18news

Leave a Reply

Your email address will not be published.