आगरा: अंतरराष्ट्री्य पर्यावरण कार्यकर्ता है ताजमहल के पीछे फोटो खिंचाने वाली युवती, कमिश्नर ने प्रशासन से मांगा जवाब

Regional

आगरा: हाथों में पोस्टर लेकर ताजमहल की तलहटी पर खड़े होकर ताजमहल की खूबसूरती पर तंज कसने का फोटो जो सोशल मीडिया पर तेजी के साथ वायरल हो रहा वह फोटो अंतरराष्ट्रीय पर्यावरण कार्यकर्ता लिसीप्रिया कं गुजम का है। लिसीप्रिया ने यह फोटो अपने टि्वटर हैंडल पर पोस्ट किया था। ट्विटर पर पोस्ट होने के बाद यह फोटो तेजी के साथ वायरल हुआ था। लिसिप्रिया द्वारा हाथ में पकड़े हुए पोस्टर पर लिखा हुआ है “Behind The Beauty Of Taj Mahal is Plastic Pollution”. और उनके आसपास ताजमहल के आगे नदी किनारे प्लास्टिक कचरा बिखरा पड़ा है। इस पोस्ट के वायरल होने के बाद कमिश्नर अमित गुप्ता ने प्रशासन व नगर निगम से जवाब-तलब किया। नगर निगम ने स्पष्टीकरण भी मांगा है।

पर्यावरण संरक्षण की चला रहीं मुहिम

असम के मनीपुर गांव में जन्मी लिसीप्रिया छह साल की उम्र से पर्यावरण संरक्षण को लेकर दुनियाभर में मुहिम चला रही हैं। संसद भवन के सामन उन्होंने 2019 में पर्यावरण परिवर्तन कानून और शिक्षा नीति में पर्यावरण को शामिल करने की मांग को लेकर विरोध-प्रदर्शन किया था। जिसके बाद 2019 में ही उन्हें स्पेन के मेड्रिड शहर में आयोजित यूनाइटेड नेशन्स क्लाइमेट कॉन्फ्रेंस (सीओपी-25) में सबसे युवा पर्यावरविद् के रूप में ख्याति मिली। अब तक 32 देशों की 4000 से अधिक संस्थाओं में पर्यावरण जागरुकता के लिए भ्रमण कर चुकी हैं।

21 जून को ट्विटर पर अपलोड किया था फोटो

लिसीप्रिया ने 21 जून को ट्विटर पर ताजमहल के पार्श्व में यमुना किनारे खड़े हुए अपना एक फोटो ट्वीट किया है। उनके हाथ में एक पोस्टर है। पोस्टर पर लिखा है ‘बिहाइंड द ब्यूटी ऑफ ताजमहल इज प्लास्टिक पॉल्यूशन’ यानी ताजमहल के खूबसूरती के पीछे प्लास्टिक प्रदूषण है।

उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा है कि ताजमहल देखने के दौरान आपने यह नजारा देखा होगा। आप कह सकते है यह बहुत प्रदूषित है, लेकिन आपके पॉलिथीन बैग का एक टुकड़ा, पानी की बोतल ने इस हालात पैदा किए हैं। जब हर साल यहां लाखों लोग आते हैं। उनके इस फोटो को हजारों लोग रीट्वीट कर चुके हैं।

कमिश्नर ने मांगा जवाब

फोटो वायरल होने के बाद आगरा मंडल के कमिश्नर अमित गुप्ता ने संबंधित अधिकारियों से जवाब तलब किया। जिसके बाद बुधवार को नगर निगम ने अधिकृत हैंडल से ट्वीट का जवाब देते हुए कहा कि जब यमुना नदी में जलस्तर घट जाता है तो प्लास्टिक कचरा इकठ्ठा हो जाता है।

यूपी की राजधानी में कर रही हैं विरोध प्रदर्शन

कमिश्नर अमित गुप्ता ने कहा कि हमारी टीम नियमित सफाई कराती है। इसके साथ ही बुधवार को मौके के फोटो भी निगम ने ट्वीट किए हैं। जानकारों के अनुसार यह फोटो 27 मई का बताया जा रहा है। लिसीप्रिया इन दिनों लखनऊ में क्लाइमेंट चेंज लॉ की मांग को लेकर विरोध-प्रदर्शन कर रही हैं।

-एजेंसी

up18news

Leave a Reply

Your email address will not be published.