कई रोगों का इलाज है ये चमत्कारी बैंगनी फूल, हर्बल सप्लीमेंट के रूप में भी उपयोग

Health

स्वाद(रस)- कड़वा
शक्ति- ठंडा करना
पाचन के बाद प्रभाव- तीखा
दोष पर प्रभाव- वात और पित्त को कम करता है।

लेडीज प्रॉब्लम का बेस्ट सॉल्यूशन

आयुर्वेद विशेषज्ञ बताती हैं कि कृष्ण कमल कई तरह की बीमारियों में आपको राहत पहुंचाने का काम कर सकता है। इसे आप बाहरी अथवा आंतरिक बीमारियों में इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसे में यह महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द, थकान, तनाव को कम करने के साथ ही पीएमएस की समस्या को खत्म करने का काम करता है। साथ ही मेनोपॉज की परेशानी में भी लाभ पहुंचता है। इसके अलावा महिलाओं में यूटीआई की समस्या सबसे ज्यादा होती है। इसमे भी पैशन फ्लावर मददगार साबित हो सकता है।

दिमाग को रखता है शांत

आयुर्वेद विशेषज्ञ ने पैशनफ्लावर को दिमाग को शांत करने वाला औषधीय बताया है। दरअसल, यह फूल आपके मस्तिष्क में गामा-एमिनोब्यूट्रिक एसिड (जीएबीए) के स्तर को बढ़ा देता है जिससे आपको आराम करने और बेहतर नींद लेने में मदद मिल सकती है। ऐसे में इसे अनिद्रा, अवसाद, तनाव, सिर दर्द में फायदेमंद माना जाता है।

इन बीमारियों को भी करता है कंट्रोल

डॉक्टर दीक्षा के अनुसार पैशनफ्लावर केवल महिलाओं की समस्या और दिमाग को शांत करने के साथ हाई ब्लड प्रेशर में रेस्टलेस लेग सिंड्रोम, अटेंशन डेफिसिट डिसऑर्डर और इरिटेबल बाउल सिंड्रोम के लिए फायदेमंद होता है।

सेवन के लिए कैसे करें उपयोग

आयुर्वेद विशेषज्ञ बताती हैं कि कृष्ण कमल का उपयोग चाय के रूप में किया जा सकता है। जो मानसिक चिंता और थकावट से अनिद्रा की परेशानी, अत्यधिक तनाव, अवसाद, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, आदि में फायदेमंद साबित होता है।

कैसे करें इस्तेमाल

चाय की तैयार करने के लिए 1 टी-स्पून सूखे पैशन फ्लावर को एक कप पानी में उबालकर 5-10 मिनट के लिए भिगो दें। इसे छानकर गुनगुने ड्रिंक का सेवन करें। इसे दिन में 2 – 3 बार लिया जा सकता है। सोने से एक घंटे पहले इसे पीना सेहतमंद माना जाता है।

बवासीर और UTI में कैसे करें यूज

आयुर्वेद विशेषज्ञ बताती हैं कि पैशनफ्लावर को बाहरी बीमारियों जैसे बवासीर, यूटीआई, पेशाब में जलन, फिशर के उपचार के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे करें इस्तेमाल

बाहरी उपचार के लिए 20 ग्राम औषधीय फूल को 200 मिलीलीटर उबलते पानी में डालें। लगभग 5 मिनट के बाद इसे छान लें और ठंडा होने पर इससे प्रभावित जगह को धो लें।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published.