ताज़महल के बंद कमरों को फिर से खोलने की उठी मांग, इन 5 लोगों को कमरे के अंदर जाने की मांगी इजाज़त

Regional

हाइकोर्ट द्वारा याचिका ख़ारिज कर देने के बाद एक बार फिर ताजमहल के 22 कमरों को खोलने की मांग फिर से उठी है। हाल में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) इन कमरों की तस्वीरें जारी की थी, जिसके आधार पर लखनऊ हाई कोर्ट में याचिका डालने वाले याचिकाकर्ताओं ने 5 सदस्यीय दल को 22 कमरों में जाने की इजाजत मांगी है।

ताजमहल के बंद पड़े 22 कमरों को खुलवाने के लिए याचिकाकर्ता की तरफ से ASI और संस्कृति मंत्रालय को चिट्ठी भेजी गई है, जिसमें 5 लोगों के दल को ताजमहल में बंद पड़े 22 कमरों में जाने की इजाजत देने की मांग की गई है। पांच सदस्य दल में एक रिसर्चर, आर्किटेक्ट प्लानर, वकील, इतिहासकार और शिक्षाविद होंगे।

भेजे गए पत्र में ताजमहल की जमीन के मालिकाना हक का ब्यौरा भी मांगा गया है। इससे पहले ASI ने ताजमहल के 22 कमरों की तस्वीर जारी की थी। आगरा ASI प्रमुख आरके पटेल ने बताया था कि तस्वीरें जनवरी 2022 के न्यूजलेटर के रूप में ASI की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं, कोई भी उनकी वेबसाइट पर जाकर देख सकता है।

गौरतलब है कि इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने हाल ही में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता रजनीश कुमार की ओर से दायर ताजमहल के 22 कमरों को खोलने की मांग वाली जनहित याचिका को खारिज कर दिया था। इसके बाद ASI ने इन बंद कमरों की तस्वीर शेयर की। तस्वीरें उस वक्त की हैं, जब चूने की पैनिंग सहित रेनोवेशन का काम किया गया था।

बताया जा रहा है कि इस काम में करीब 6 लाख रुपये का खर्च आया था। आगरा ASI प्रमुख आरके पटेल ने कहा था कि कमरों के अंदर किए गए मरम्मत कार्य की तस्वीरें जारी की गई हैं। वहीं पर्यटन उद्योग के सूत्रों ने बताया कि इन कमरों में क्या है, इस बारे में गलत बातें न फैलें, इसे रोकने के लिए ही इन तस्वीरों को सार्वजनिक किया गया है।

-एजेंसी

up18news

Leave a Reply

Your email address will not be published.