सूफी खानकाह के अध्‍यक्ष ने कहा, PFI पिछले दो सालों से कर रहा था आतंकी भर्ती, घोल रहा था समाज में जहर

National

मजीदी ने कहा कि पीएफआई जिस तरह की विचारधारा रखती है, वो देश के लिए ठीक नहीं है। यह संगठन देश के खिलाफ काम कर रहा है। इसने पिछले दो सालों से आईएसआईएस के लिए भारत में लड़ाकों की भर्ती की। मजीदी ने कहा कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया समाज में जहर घोलने का काम कर रहा है।

दरअसल, देशभर में PFI के कई ठिकानों पर NIA और ED ने कल 22 सितंबर को छापेमारी की। इस दौरान केंद्रीय जांच एजेंसी ने पीएफआई के 100 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया। इस कार्रवाई के बाद 23 सितंबर को केरल में पीएफआई द्वारा बंद बुलाया। बंद के दौरान तोड़फोड़ की घटनाएं सामने आई हैं। इसके बाद सूफी खानकाह एसोसिएशन समेत कई संगठनों ने पीएफआई को बैन करने की मांग की है।

बता दें कि मजीदी ने अपनी मांगों को लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र भी लिखा है। पत्र में उन्होंने पीएफआई के खिलाफ साक्ष्यों के आधार पर लिखते हुए कहा कि उन्हें सरहद पार से लगातार जान से मारने की धमकियां मिल रही हैं। देश के खिलाफ पीएफआई की चल रही गतिविधियों के चलते उसे प्रतिबंधित किया जाना चाहिए।

मजीदी ने कहा कि पीएफआई के लोग मुस्लिम युवाओं को बहलाकर आतंकी बना रहे थे। उन्हें देश के खिलाफ युद्ध के लिए तैयार कर रहे थे। धर्म परिवर्तन के जरिए ये ISIS के लिए तैयार कर रहे थे। मजीदी ने कहा कि पीएफआई को बैन करने की हमारी पुरानी मांग है, लेकिन इसे बैन करना कोई ठोस कदम नहीं होगा क्योंकि जब तक इस तरह की विचारधारा पर लगाम नहीं लगाई जाती, तब तक ऐसे संगठन पनपते रहेंगे।

-up18news/pnn

Leave a Reply

Your email address will not be published.