मंदिर परंपरा में हस्तक्षेप कर स्टालिन सरकार मंदिर संस्कृति को कर रही हैं नष्ट: हिन्दू जनजागृति समिति

भारत के इतिहास में राजा-महाराजा स्वयं के नियंत्रण में रखकर मंदिर नहीं चलाते थे अपितु वे मंदिरों के लिए भूमि और धन दान देते थे । उस काल में मंदिरों का व्यवस्थापन श्रद्धालु ही देखते थे परन्तु भारत की स्वतंत्रता के उपरांत मंदिरों की धन-संपत्ति देखकर ‘सेक्युलर’ सरकार ने मंदिर नियंत्रण में लेने का अनाचार […]

Continue Reading