एक नजर: कैसे कांग्रेस के प्रमुख नेताओं की राय सावरकर को लेकर बदलती चली गई

विनायक दामोदर सावरकर यानी वीर सावरकर… एक ऐसा नाम जिसका जिक्र करना भी विवाद को न्‍योता देना साबित हो जाता है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तो सनसनीखेज दावा कर बताया कि सावरकर ने महात्‍मा गांधी के कहने पर अंग्रेजों के आगे दया याचिका दी थी। इस दावे को लेकर अब कांग्रेस राजनाथ सिंह, बीजेपी […]

Continue Reading

गांधी जयन्ती: गांधी पर लिखा वह नाटक जिसे छापने को कोई तैयार ही नही था

“हिंदुस्तान एक था और एक बना रहे. इससे ज़्यादा स्वाभाविक कोई और बात मैं नहीं मानता. जिसे मैं निराशाजनक मानता हूँ, वह है पागलपन. हवा में धुंधुआती नफ़रत भर गई है. मैं दक्षिण अफ्ऱीका से आया, तब से अब तक इतना अंधा और बेहूदा भावावेश कभी नहीं पसरा था.” महात्मा गाँधी के ये शब्द आज […]

Continue Reading

दारुल उलूम के मौलाना अरशद मदनी बोले: अगर तालिबान दहशतगर्द है तो फिर नेहरु और गांधी भी दहशतगर्द थे

तालिबान और दारुल उलूम दोनों देवबंद विचारधारा को मानते हैं। इसी वजह से अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद दारुल उलूम न सिर्फ चर्चा में है बल्‍कि उस पर तमाम सवाल भी खड़े हो रहे हैं। हिंदी अखबार दैनिक भास्कर इन्‍हीं सब सवालों को लेकर सहारनपुर के देवबंद में स्थित दारुल उलूम पहुंचा और […]

Continue Reading

गोडसे ने गांधी की बजाय जिन्‍ना को मारा होता तो बंटवारा न होता: संजय राउत

मुंबई। महाराष्ट्र के शिवसेना सांसद संजय राउत ने अफगानिस्तान में बने हालात की तुलना भारत के बंटवारे के समय से की है। उन्होंने इसमें एक नया एंगल भी जोड़ा है। शिवसेना के मुखपत्र सामना में अपने साप्ताहिक कॉलम ‘रोखठोक’ में संजय राउत ने लिखा कि अफगानिस्तान की मौजूदा स्थिति भारत के बंटवारे के समय जैसी […]

Continue Reading

नीलामी में महात्मा गांधी की ‘इस्तेमाल की गई टूटी हुई’ जेब घड़ी 12 लाख में बिकी

ब्रिटेन के ब्रिस्टल शहर में हुई एक नीलामी में महात्मा गांधी की ‘इस्तेमाल की गई और टूटी हुई’ जेब घड़ी 12,000 पाउंड में बिकी. भारतीय मुद्रा में ये रकम 11 लाख 82 हज़ार रुपये के क़रीब है. चांदी की पॉलिश वाली स्विस घड़ी गांधी ने साल 1944 में उस व्यक्ति के दादा को उपहार में […]

Continue Reading