हिमाचल प्रदेश का फेमस टूरिस्ट प्लेस धर्मशाला: जानिए कुछ दिलचस्प बातें…

Life Style

धर्मशाला में 16वीं शताब्दी से लोग शरण लेने के लिए आते रहे हैं। यही नहीं, प्रकृति के बीच कुछ दिन बिताने के लिए आराम भी करके जाते हैं। धर्मशाला शब्द संस्कृत के दो शब्दों से बना है: डीएचए का अर्थ है धारण करना और राम का अर्थ तीर्थयात्रियों के लिए विश्राम स्थल है। आज, यह पर्यटकों और आध्यात्मिक साधकों के बीच लोकप्रिय डेस्टिनेशन बना हुआ है।

‘द ब्रिटिश सिविल सर्विसेज’ द्वारा किया जाता था इस्तेमाल

धर्मशाला का इतिहास ब्रिटिश सिविल सेवा से भी जुड़ा हुआ है। कुछ लोग कहते हैं कि इसका उपयोग ब्रिटिश अधिकारियों के लिए ग्रीष्मकालीन रिट्रीट के रूप में किया जाता था। कई लोगों का मानना है कि यहां के ग्रैंड ट्रंक रोड को भारत और चीन के बीच होने वाले व्यापार के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। धर्मशाला चाहे कितने भी समय पहले का हो, अब भारतीय संस्कृति और इतिहास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

शहर में करीबन एक लाख लोग

धर्मशाला भारत का एक शहर है जिसकी आबादी लगभग 100,000 है। शहर में कई अलग-अलग धर्म एक दूसरे के साथ सद्भाव से रहते हैं। धर्मशाला में हिंदू, बौद्ध, मुस्लिम, ईसाई और सिख सभी एक साथ यहां शांति से रहते हैं। पूरे शहर में कई मंदिर हैं, जो हर धर्मों का प्रतिनिधित्व करते हैं। सबसे लोकप्रिय मंदिर बहाई लोटस टेम्पल है, जो शहर की सबसे बड़ी धार्मिक संरचना भी है। यहां कई मस्जिदें, चर्च और गुरुद्वारे (सिख मंदिर) भी हैं।

चंदन नाथ मंदिर’ के नाम पर रखा गया

इस जगह का नाम चंदन नाथ मंदिर के नाम पर रखा गया है, जो शहर में स्थित है। कहा जाता है कि यह मंदिर 1,000 साल से अधिक पुराना है और हिंदुओं के लिए एक लोकप्रिय तीर्थ स्थल है।

जब दलाई लामा तिब्बत से भागे

1959 में चीनी सरकार के खिलाफ विद्रोह के बाद दलाई लामा तिब्बत से भाग गए थे। उन्होंने हिमालय के पहाड़ों को पार करके भारत पहुंचे थे। भारत सरकार ने उन्हें हिमाचल प्रदेश राज्य के छोटे से शहर धर्मशाला में जमीन दी। तब से धर्मशाला तिब्बती डायस्पोरा का केंद्र रहा है और दलाई लामा का घर है।

मुस्लिम आबादी को महाराजा हरि सिंह ने लिया था गोद

धर्मशाला की मुस्लिम आबादी का दिलचस्प इतिहास है। 1947 में जब भारत का विभाजन हुआ और पाकिस्तान बना, बहुत से मुसलमान भारत में रह गए। जम्मू और कश्मीर की रियासत के शासक महाराजा हरि सिंह ने इन मुसलमानों को गोद लिया और उन्हें यहां अपना घर बनाने के लिए जमीन दी। आज धर्मशाला में 2,000 से अधिक मुसलमान रहते हैं, जो शहर की आबादी का लगभग 5% है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *