आगरा: बारिश ने जनकपुरी में सुबह राम बारात की शोभायात्रा पर लगाया ग्रहण, रातभर भी भीगती रहीं झांकियाँ

Local News

आगरा। बुधवार को पूरे दिन और फिर रात में हुई बारिश आज गुरुवार को भी नहीं थमी है। कभी धीमी तो कभी तेज बारिश ने राम बारात और जनकपुरी में भी खलल डाला। आज सुबह जनकपुरी पहुंची बारात की शोभायात्रा नहीं निकाली जा सकी। रातभर भी बारिश में झांकियाँ भीगती रहीं। राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न के स्वरूपों को छाते तान कर बारिश से बचाने का प्रयास किया गया।

आज सुबह करीब साढ़े आठ बजे राम बारात की नगर परिक्रमा पूरी होने पर सभी स्वरूपों को कारों में बैठा कर दयालबाग में एलोरा एनक्लेव ले जाया गया। यहां अल्पविश्राम के बाद बैंडबाजों के साथ बारात की शोभायात्रा निकाल कर पुष्पांजलि हाइट्स में बनाये गये विश्राम स्थल ले जाने का कार्यक्रम तय था। लेकिन निरंतर बारिश के कारण एलोरा एनक्लेव में स्वरूपों की अगवानी और आरती करने के बाद उन्हें रथों के बजाय कारों से पुष्पांजलि हाइट्स ले जाया गया। एलोरा एनक्लेव में राजा जनक बने आलोक अग्रवाल ने जनकपुरी महोत्सव समिति के पदाधिकारियों के साथ बारात की अगवानी की। रामलीला कमेटी के अध्यक्ष पुरुषोत्तम खंडेलवाल व अन्य पदाधिकारी भी मौजूद रहे।

राम बारात में भी पड़ा बारिश का खलल

बुधवार को अच्छी बात यह रही कि शाम साढ़े चार बजे से रात दस बजे तक राम बारात मार्ग पर बारिश बन्द रही। इस दौरान बारात के प्रारंभ स्थल रावतपाड़ा से अधिकांश झांकियाँ व रथ निकल चुके थे। राम जी के रथ पर सवार होने से पहले तेज बारिश हुई, लेकिन दस्य मिनट में ही थम गई। इसके बाद रात साढ़े ग्यारह बजे से सुबह तक कभी धीमी कभी तेज बारिश होती रही। इसके बावजूद बारात की नगर परिक्रमा चलती रही। कुछ बैंड वादकों ने तो रेनकोट पहनकर वादन किया।

छप्पन भोग की झांकियों और बैंड ने फिर कराई देरी

बारिश के अलावा झांकियों और बैंड वालों ने इस साल भी राम बारात में विलंब करा दिया। बारात की करीब साठ झांकियाँ शाम सात बजे तक रावतपाड़ा तिराहे से आगे बढ़ चुकी थीं, लेकिन उसके बाद पीछे लगने की होड़ में झांकी वालों ने विलम्ब किया। रामलीला कमेटी ने विलम्ब कर रहीं झांकियों को माइक से कई बार पुकारा और अगले साल बारात में शामिल न करने की चेतावनी भी दी, लेकिन उन पर असर नहीं हुआ। बैंड वाले भी समय का पालन करते नहीं दिखे। बैंडों के कारण जौहरी बाजार, कचहरी घाट, बेलनगंज आदि स्थानों पर बारात में भारी विलम्ब हुआ। रात पौने तीन बजे राम बारात घटिया आजम खां स्थित बीपी आयल मिल पर पहुंच पाई और सुबह साढ़े आठ बजे वापस रावतपाड़ा पहुंची।

पांच घण्टे बारात में रहे केंद्रीय मंत्री बघेल

केंद्रीय विधि एवं न्याय मंत्री प्रो.एस.पी. सिंह बघेल राम बारात में करीब पांच घण्टे रहे। वे शाम लगभग छह बजे बारात के प्रारम्भ स्थल रावतपाड़ा तिराहे पर आ गए थे। रामलीला कमेटी के अध्यक्ष विधायक पुरुषोत्तम खंडेलवाल व अन्य पदाधिकारियों ने उनका स्वागत किया। यहां मंच पर बैठ कर वे झांकियों का अवलोकन करते रहे। रात करीब साढ़े आठ बजे प्रो. बघेल ने मनःकामेश्वर मन्दिर के निकट स्थित बाराद्वारी पर पहुँच कर राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न के स्वरूपों की आरती की। उनके साथ आरती करने वालों में मंडलायुक्त अमित गुप्ता, नवागत जिलाधिकारी नवनीत सिंह चहल, एसएसपी प्रभाकर चौधरी, अपर जिलाधिकारी नगर ए के सिंह व नगर पुलिस अधीक्षक विकास कुमार, नेशनल चैम्बर के अध्यक्ष शलभ शर्मा भी शामिल रहे। प्रो.बघेल बारात में दूल्हा बने राम के रथ के आगे भी कुछ दूरी तक चलते रहे।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published.