मैं खुद को कई दिनों के लिए एक कमरे में बंद कर देता – अच्चर भारद्वाज

Entertainment

मुंबई: समय पर इलाज न होने पर मानसिक समस्याएं घातक साबित हो सकती हैं। प्रत्येक व्यक्ति अपने जीवन में उतार का सामना करता है, लेकिन इसे सरासर दृढ़ संकल्प और प्रियजनों के समर्थन के साथ दूर किया जा सकता है। अच्चर भारद्वाज जिन्हें वर्तमान में दंगल टीवी के ऐ मेरे हमसफ़र में लखन कोठारी की भूमिका निभाते हुए देखा जाता है, वे भी उनके जीवन में एक कठिन समय से गुज़रे है।

अच्चर को दो साल पहले अवसाद का सामना करना पड़ा और इसके बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, “मुझे एक बड़ी फिल्म में काम मिला था । मैंने तीन महीने तक रिहर्सल की और अपना पूरा दिल लगा दिया। लेकिन एक दिन मुझे बताया गया कि मुझे स्टार किड से बदल दिया गया है। इस बात से बाहर निकलने में मुझे दो महीने लगे और यह पूरी घटना ने मुझे उदास कर दिया। मैंने एक अभिनेता के रूप में अपनी विश्वसनीयता पर सवाल उठाना शुरू कर दिया और लगातार आत्म-हीन भावनाओं से घिरा रहा। मैंने खुद को कई दिनों के लिए एक कमरे में बंद कर दिया और नकारात्मक विचारों में डूब गया। मैं अपने दिमाग को व्यस्त रखने के लिए घंटों तक टीवी देखता रहता

इसके बारे में आगे बात करते हुए कि उन्होंने अपने अवसाद पर कैसे काबू पाया, उन्होंने कहा, “मैं अपनी ताकत के बारे में खुद से बात करने के लिए हर आधे घंटे में एक अलार्म सेट करता था। मैंने खुद से कहा करता था कि मैं एक अच्छे अभिनेता हू। स्वस्थ भोजन मेरा साधन बन गया। जिस दिन मैंने सही खाना शुरू किया मुझे अच्छा लगने लगा। साथ ही मेरे माता-पिता मेरा निरंतर समर्थन थे। मेरे पिताजी ने हर दिन मुझ पर जाँच की। अपने माता-पिता से बात करना बहुत महत्वपूर्ण है, मुझ पर विश्वास करो, इससे मदद मिलती है

अच्चर को फिर से शोबिज में आने और अपने आप को साबित करने का दृढ़ संकल्प उसे उत्साहित रखता है। खैर यह रवैया उसे महान ऊंचाइयों पर ले जाएगा।

-Srushti Rane

up18news

Leave a Reply

Your email address will not be published.