अयोध्‍या में राम मंदिर के राफ्ट फाउंडेशन का काम मकर संक्रांति के दिन पूरा, पूजन व अनुष्ठान के साथ रविवार से अगले चरण की तैयारी

Exclusive

यूपी विधानसभा का चुनाव घोषित होने के साथ ही मंदिर निर्माण में और तेजी लाई जा रही है। राम मंदिर के राफ्ट फाउंडेशन का काम मकर संक्रांति के दिन पूरा हो गया। राफ्ट फाउंडेशन के केवल दो ब्लॉकों की ढलाई का काम बाकी था, जिसे 14 जनवरी को ढलाई कर इसे सूखने के लिए एक हफ्ते के लिए छोड़ दिया गया है। अब रविवार को राफ्ट फाउंडेशन पर पूजन व अनुष्ठान करके अगले चरण के निर्माण की तैयारी शुरू हो जाएगी। मंदिर ट्रस्ट के सदस्य डॉ अनिल मिश्र के मुताबिक मंदिर निर्माण के काम में तेजी लाई गई है।

दिसंबर 2023 में शुरू होगा दर्शन

ट्रस्ट का लक्ष्य है कि ग्राउंड फ्लोर का निर्माण रामलला को भव्य मंदिर मे स्थापित कर दर्शन शुरू करने की घोषित माह दिसंबर 2023 से 3 माह पहले ही पूरा कर लिया जाए। श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि राम मंदिर निर्माण के विभिन्न स्टेज को दर्शाने वाला थ्री डी वीडियो यू ट्यूब पर अपलोड किया गया है, जिससे इसके भव्य निर्माण की विजुअल जानकारी आम लोगों तक पहुंच सके।

20 फुट ऊंची होगी प्लिंथ

उन्होंने बताया कि राम मंदिर निर्माण का पहला चरण राफ्ट फाउंडेशन के निर्माण के साथ पूरा हो रहा है। अब अगले चरण में पत्थरों का काम बेस प्लिंथ के निर्माण से शुरू होगा। इसकी तैयारी चल रही है। वहीं डा अनिल मिश्र का कहना है कि 300 फुट गुणे 400 फुट वर्ग फुट क्षेत्र पर 20 फुट ऊंची बेस प्लिंथ के निर्माण में करीब 3 लाख घन फुट से ज्यादा पत्थर लगेंगे।जिनको मिर्जापुर व बेंगलुरु से मंगाया जा रहा है। 50 हजार घनफुट से ज्यादा पत्थर अयोध्या पहुंच चुके हैं। बाकी भी जल्द आने वाले हैं। ये पत्थर खास आकार में कटाई करके तैयार कर मंगवाए जा रहे हैं। बेस प्लिंथ का निर्माण एल एंड टी कंपनी टीसीएस के तकनीकी परामर्श से करवाएगी।

सोमपुरा की कंपनी करेगी मुख्य मंदिर का निर्माण

मंदिर निर्माण के तीसरे चरण का काम मेसर्स सोमपुरा की कंपनी करवाएगी। जिसमें मुख्य मंदिर का निर्माण व डिजाइन व चिह्नीकरण शामिल है। डॉ मिश्र के मुताबिक बेस प्लिंथ के निर्माण के समय ही पिलर्स व मंदिर के मुख्य स्थलों का चिन्हांकन भी होगा।

पीएम मोदी की सुरक्षा को लेकर महामृत्युंजय अनुष्ठान

दूसरी ओर पीएम मोदी की सुरक्षा को लेकर संघ परिवार का तीन दिवसीय महामृत्युंजय अनुष्ठान शनिवार को समाप्त हो गया। अयोध्या के क्षीरेश्वर नाथ मंदिर में इस अनुष्ठान को लेकर हवन किया गया, जिसमें आहुति देने के लिए संघ के पदाधिकारी स्वयंसेवक राम मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय व सदस्य डॉ अनिल मिश्र मंदिर ट्रस्ट के कार्यालय प्रभारी प्रकाश गुप्ता सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे। प्रकाश कुमार गुप्ता ने बताया कि पंजाब दौरे के दौरान जिस तरह से सुरक्षा में भारी चूक का मामला सामने आया, उससे यह आभास हुआ कि पीएम की सुरक्षा मे साजिश हो सकती थी। ऐसे में यहां उनकी सुरक्षा को लेकर महामृत्युंजय अनुष्ठान का निर्णय किया गया, जिससे वे भविष्य मे पूरी तरह से सुरक्षित रहे और उन पर आने वाले सारे संकट दूर हो जाएं।

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *