आगरा: संतो पर लालछन लगा कर किया जा रहा बदनाम: धनजय देसाई

Press Release

आगरा : कैलाशपुरी स्थित सेल्फी रेस्टोरेंट पर हिन्दू राष्ट्र सेना की ओर से भारतीय संस्कृति की रक्षा करने वाले साधु-संतों के खिलाफ हो रही साजिशों को रोकने के संबंध में एक प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। भारतीय सनातन संस्कृति व हिंदुत्व के मुद्दे पर प्रखर बोलने वाले हिंदू राष्ट्र सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष धनंजय देसाई ने कहा कि हिंदू संतों पर लगातार हमले हो रहे हैं। संनातन धर्म में साधुओं का सम्मान किए बगैर हिंदुत्व नहीं सकता। उस सनातन धर्म के महापुरुषों का अपमान व उनके साथ अन्याय हो रहा है। उनको बलात्कार जैसे झूठे मामलों में फसाया जा रहा है। धनंजय देसाई जी ने संत आशारामजी बापू को भारतीय सनातन धर्म की रक्षा प्रणाली की उपमा दी है। आशाराम बापू जैसे योगी महापुरुषों के चरित्र पर लांछन लगाकर आशाराम जी बापू को संकट में नहीं लाया गया है बल्कि भारतीय संस्कृति, भारतीय जीवन पद्धति, सनातन धर्म को संकट में लाया गया है.

मनकामेश्वर मंदिर के महंत योगेश पुरी ने कहा कि षडयंत्रकारियों व धर्मांतरण करने वालों के द्वारा ही हिन्दुओं के मन में अपनी संस्कृति के प्रति प्रश्न चिन्ह खड़े करने के लिए आशाराम बापू जी जैसे महापुरुषों के चरित्र हनन के प्रयास किये जा रहे हैं।

राष्टीय अध्यक्ष धनंजय देसाई आह्वान करते हुए कहा कि मैं सभी भारतीयों से कहता हूं कि यह सब सहते हुए आशाराम जी बापूको 8 से 9 साल हो गए। अब जागृत हो जाओ। भारत को पूर्ण तेज से जागृत करने वाले आशाराम जी बापू के चरणों में हम क्षमा प्रार्थी है कि उनको इतना भुगतना पड़ा है। मैं न तो आशाराम जी बापू से कभी मिला हूं और न ही मैंने उनसे दीक्षा ली है। यह हमारी नपुंसकता है, हमारा अपयश है। बापू जी जेल के अंदर नहीं है, हमारी कुल की धर्म की राष्ट्र की सुरक्षा की रक्षा प्रणाली अंदर है। उनको छुड़वाना हमारे कुल का दायित्व है। आशाराम बापू की लड़ाई बापू की है ही नहीं। उनको जेल से छुड़ाना हम सब का कर्तव्य है।

कैलाश मंदिर महंत निर्मल गिरी ने कहा कि देश में साधु संतों, देवी देवताओं को अपमानित एवं बदनाम करने की एक परंपरा चल पड़ी है। संत आशाराम बापू जी ने समाज के चरित्र निर्माण, समाजोत्थान एवं गौरक्षा के लिए बहुत दैवीय कार्य किए है। 87 वर्ष की उम्र और इतना खराब स्वास्थ्य होते हुए भी उनको न तो बेल और न ही पैरोल दी जा रही है

आशाराम जी बापू जैसे महापुरुषों की समाज को बहुत आवश्यकता है। संत आशाराम जी बापू को जल्द से जल्द जेल से रिहा किया जाना चाहिए। इस अवसर पर श्री योग वेदांत सेवा समिति के वेंकट अरवला, राजेश चतुर्वेदी, सुनील शर्मा, हरी नारायण चतुर्वेदी, राहुल चतुर्वेदी, मुकेश नेचुरल, प्रतिभा जिंदल आदि मौजूद रहे।

-up18 News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *