महाराष्‍ट्र के स्‍वास्‍थ्य मंत्री का बयान, अस्‍पताल में आग से मरीजों की मौत नेशनल न्‍यूज़ नहीं

Politics

मुंबई। एक तरफ जहां विरार के अस्पताल में लगी भीषण आग की वजह से 14 कोरोना मरीजों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। वहीं दूसरी तरफ राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए विवादित बयान इस घटना के संदर्भ में दिया है। राजेश टोपे ने कहा कि विरार के अस्पताल में लगी आग कोई नेशनल न्यूज़ नहीं है

इस घटना के बाद राजेश टोपे ने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए कहा कि हम रेमडेसिविर के बारे में बात कर सकते हैं, ऑक्सीजन के बारे में बात कर सकते हैं लेकिन विरार की घटना कोई नेशनल न्यूज़ नहीं है। यह एक राज्य की घटना है और राज्य सरकार इस पर उचित कदम उठा रही है।

और कितनों की बलि ली जाएगी?

विरार की घटना पर शोक जताते हुए विधान परिषद में नेता विपक्ष प्रवीण दरेकर ने कहा है कि और कितने निर्दोष लोगों की बलि ली जाएगी, तब कोई खबर नेशनल न्यूज़ बनेगी? राज्य की महाविकास अघाड़ी सरकार और उनके मंत्रियों की संवेदना मर चुकी है। इसी वजह से महाविकास अघाड़ी सरकार के मंत्री इस तरह के गैर-जिम्मेदाराना बयान दे रहे हैं।
उन्होंने कहा कि राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह से बर्बाद हो चुकी है। उसे दुरुस्त करने की बजाय मंत्री टीवी पर चमकने के लिए कुछ भी बयान दे रहे हैं।

10 लाख की मदद

विरार आग हादसे में मृतकों के परिजनों को राज्य सरकार की तरफ से 5- 5 लाख रुपये जबकि वसई- विरार महानगरपालिका की तरह से भी 5 लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की बात राज्य के नगर विकास मंत्री एकनाथ शिंदे ने कही है।

इस प्रकार मृतकों के परिजनों को दस लाख रुपये की आर्थिक मदद दी जाएगी। वहीं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इस घटना में मृतकों के परिजनों को दो लाख रुपए और गंभीर रूप से घायलों को 50 हज़ार रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है।

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *