आगरा: रमजान की इबादत में कोरोना से जंग जीतने की दुआ, जेल में भी इबादत में मशगूल है बंदी

Local News

आगरा । रहमत और बरकत के महीने रमजानुल मुबारक में इबादत के दौरान करीब चार सौ बंदी रोज देश के कोरोना से जंग जीतने की दुआ कर रहे हैं । इस वायरस के जल्द से जल्द पराजित होने की दुआ मांगी जा रही है । सेंट्रल जेल में हर वर्ष कई सौ बंदी रोजा रखते हैं ।

इस वर्ष भी 256 बंदी रोजा रख रहे हैं । वहीं , जिला जेल में भी बंदी रोजेदार हैं । इस बार भी देश कोरोना वायरस से जंग लड़ रहा है । महामारी फैलने से रोकने के लिए प्रदेश सरकार व जिला प्रशासन द्वारा लगातार प्रयास किए जा रहे हैं ।

हर साल इन बंदियों के स्वजन रमजान से पहले उनके लिए सहरी और इफ्तार के सामान दे जाते थे । मगर , इस बार भी कोरोना संक्रमण के खतरे के चलते मुलाकात बंद है । बाहर की दुनिया से अलग – थलग होने के बावजूद यह बंदी इस वायरस की गंभीरता को बखूबी जान रहे हैं । वह बरकतों के इस महीने में इबादत में रोज देश के कोरोना से जंग जीतने की दुआ करते हैं । इन बंदियों को यकीन है कि उनकी दुआ जरूर कबूल होगी । वहीं , सेंट्रल जेल में रोजेदारों की सहरी और इफ्तार का इंतजाम जमीयत उलमा ए हिंद और प्रशासन की ओर से किया जा रहा है ।

जमीअत उलमाए हिंद के प्रवक्ता सगीर अहमद ने बताया कि 41 साल से रोजेदार बंदियों के लिए सामान पहुंचा रहे हैं। बंदी शारीरिक दूरी का ध्यान रखते हुए बैरक में नमाज अदा कर रहे हैं । जिन रोजेदारों को कुरान पढ़ना आता है , वे उसकी तिलावत कर रहे हैं ।

1400 साल पुरानी परंपरा काे निभा रहे हैं कैदी

वहीं, सूर्यास्त के समय रोजा इफ्तार की व्यवस्था होती है. इफ्तारी से पहले नमाज अदा की जाती है. सगीर अहमद ने बताया कि मुस्लिम समुदाय के लोग 1400 साल से चले आ रहे पारंपरिक तरीके से इफ्तार करते हैं. इस दौरान वे सबसे पहले खजूर और पानी पीते हैं. इसके बाद खाना खाते हैं.

500 किलो फल भी भेजे जाते हैं रोजेदारों को

जमीयत उलमा ए हिंद के प्रवक्ता सगीर अहमद ने बताया कि केंद्रीय कारागार में रोजा रखने वाले बंदियों के लिए कमेटी इफ्तार का सामान पहुंचाती है । उसकी ओर से रोजेदार बंदियों के रोज लगभग 500 किलो फल दिए जा रहे हैं ।

रोजेदारों को मुहैया कराई जा रही सामग्री

सेंट्रल जेल में 256 बंदी और जिला जेल में भी बंदी रोजा रख रहे हैं । इनके लिए जमीयत उलमा ए हिंद , व प्रशासन की ओर से सहरी और इफ्तार की सामग्री मुहैया कराई जा रही है । -एसपी मिश्रा , जेलर केंद्रीय कारागार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *