आगरा: नमामि गंगे के अन्तर्गत गंगा नदी को अविरल एवं स्वच्छ किये जाने हेतु अनेक परियोजनायें संचालित की गई हैं: रतनलाल कटारिया

Regional

आगरा: केन्द्रीय राज्यमंत्री जलशक्ति एवं सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार रतनलाल कटारिया ने आज सर्किट हाउस में प्रेस प्रतिनिधियों से वार्ता करते हुए कहा कि नमामि गंगे के अन्तर्गत गंगा नदी को अविरल एवं स्वच्छ किये जाने हेतु अनेक परियोजनायें संचालित की गई हैं, जिसमें से कई परियोजनायें पूर्ण हो गई हैं। नालों को टैप किया जा रहा है एवं एस0टी0पी0 बनाया जा रहा है। मा0 प्रधानमंत्री जी के ड्रीम प्रोजेक्ट नल से जल पर भी तेजी से कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जनपद आगरा में सम्बन्धित अधिकारियों के साथ नमामि गंगे योजनान्तर्गत संचालित विभिन्न परियोजनाओं की प्रगति की विस्तृत समीक्षा की गई। उन्होंने कहा कि आगामी माह से हरिद्वार में लगने वाले कुम्भ को दृष्टिगत रखते हुए स्वच्छ एवं पर्याप्त जल उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में विस्तृत रूप से विचार-विमर्श किया गया। उन्होंने कहा कि 20 हजार करोड़ की धनराशि व्यय करते हुए गंगा नदी की अविरल एवं निर्मल धारा को बनाए रखने के लिए विगत् 06 वर्षों में युद्ध स्तर पर कार्य किये गये हैं।

उन्होंने कहा कि कृषि, पर्यावरण एवं आर्गेंनिक खेती के दृष्टिगत भी अर्थ गंगा योजनान्तर्गत विभिन्न कार्य शुरू किये गये हैं।

केन्द्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि सरकार का पूरा ध्यान यमुना को लेकर भी है, कि किस प्रकार की कार्ययोजना बनाई जाय, जिससे गंगा की तरह ही यमुना की भी स्वच्छ जल धारा बहे। उन्होंने कहा कि यमुना में जल स्तर बढ़ाने के लिए हरियाणा सरकार, उत्तराखंड सरकार एवं हिमांचल प्रदेश सरकार मिलकर डैम बनाये जाने की कार्ययोजना पर कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि मन्टोला नाले के ट्रीटमेन्ट के लिये लगभग 850 करोड़ की धनराशि की योजना वर्ल्ड बैंक को प्रेषित की गई है। जैसे ही योजना के ऊपर कार्य शुरू होगा, वर्ष 2022 के अन्त तक या वर्ष 2023 के प्रारम्भ में यमुना नदी के पानी में बदलाव देखने को मिलेगा। उन्होंने कहा कि मथुरा एवं वृंदावन में भी काम हो रहा है। प्रधानमंत्री जी की इच्छा है कि जिस प्रकार से गंगा में शुद्ध पानी बहता है, उसी प्रकार यमुना में भी पानी का फ्लो बने, इसके लिये क्या-क्या कदम आगे आने वाले समय में उठाए जा सकते हैं, सरकार उन पर विचार कर रही है।

उन्होंने कहा कि नल से जल की परियोजना को गाँव के साथ ही शहरों के अन्दर भी शुरू करने के लिये बजट में प्राविधान किया गया है। उन्होंने कहा कि शहरों का सीवरेज सिस्टम बेहतर हो एवं स्वच्छता बनी रहे, इसके लिये भी बजट में प्राविधान किया गया है। इसके साथ ही उन्होंने विभिन्न आधारभूत संरचनाओं के विकास के लिये बजट में बड़ी मात्रा में धनराशि के आवंटन पर खुशी प्रकट करते हुए कहा कि इससे रोजगार भी पैदा होंगे। उन्होंने कहा कि बजट में सभी वर्गों विशेषकर अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के कल्याण के लिये पिछले वर्ष से अधिक बजट का प्राविधान किया गया है।

-up18 News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *