बांग्लादेश: प्रधानमंत्री शेख हसीना ने पूर्ववर्ती सरकारों पर बोला हमला

INTERNATIONAL

ढाका। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने जियाउर रहमान, हुसैन मुहम्मद इरशाद और खालिदा जिया की पूर्ववर्ती सरकारों पर हमला बोला है। उन्‍होंने कहा कि इन सरकारों ने 1971 मुक्ति संग्राम और भाषा आंदोलन के गौरवशाली इतिहास से उनके पिता और राष्ट्र के जनक बंगबंधु का नाम मिटाने के प्रयास में पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) के कई दस्तावेजों को नष्ट कर दिया है।

हसीना ने जतिया संसद भवन में मुजीब बोरशो कार्यक्रम, मुजीब बोरशो की वेबसाइट 2020-2021 और उनके भाषणों वाले डिजिटल संस्करण के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए कहा, ‘यह साबित हो चुका है कि इतिहास को कभी भी मिटाया नहीं जा सकता है।’

उन्होंने कहा कि उनकी सरकार आईएसआई दस्तावेजों के 14 संस्करणों में से सात को पहले ही प्रकाशित कर चुकी है जो मुख्य रूप से बंगबंधु के खिलाफ थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की स्वतंत्रता के वास्तविक इतिहास को उन संस्करणों को पढ़ने से समझा जा सकता है। बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की सबसे बड़ी बेटी हसीना ने कहा कि वह सभी आगंतुकों की पुस्तकों को विभिन्न देशों की सरकारों और राज्यों के प्रमुखों और आम लोगों की टिप्पणियों के साथ संरक्षित कर रही हैं, ताकि लोगों को इतिहास से जुड़ी चीजों के बारे में पता चल सके।

राष्ट्र के जनक की जन्म शताब्दी मनाने की योजना

प्रधानमंत्री ने यह भी उल्लेख किया कि संसद की देश के लोकतंत्र की निरंतरता में भूमिका है क्योंकि लोगों के प्रतिनिधियों को यहां लोगों के कल्याण के बारे में कुछ कहने की गुंजाइश मिलती है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार संसद को चलाने में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं पैदा कर रही थी, लेकिन विपक्ष में रहते हुए उनके बुरे अनुभव थे। उन्होंने निष्पक्ष तरीके से संसद चलाने के लिए स्पीकर को धन्यवाद दिया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने मुजीब बोरशो को 16 दिसंबर तक बढ़ा दिया है, क्योंकि उनके पास देश की आजादी की स्वर्ण जयंती और राष्ट्र के जनक की जन्म शताब्दी मनाने की योजना है। अगर आने वाले दिनों में कोरोनो वायरस की स्थिति में सुधार होता है। उन्होंने कहा कि बंगबंधु का सपना था कि वह लोगों को एक अलग देश दें और मुस्कान लाएं, लेकिन वह अपनी इच्छा को पूरी तरह से पूरा नहीं कर सके क्योंकि 15 अगस्त 1975 को उनके परिवार के अधिकांश सदस्यों के साथ उनकी हत्या कर दी गई थी।

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *