कन्नौज: प्रधानमंत्री आवास योजना के सत्यापन में निकले 10 हजार अपात्र

Regional उत्तर प्रदेश

कन्नौज। उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना के सत्यापन में करीब 10 हजार अपात्र निकले हैं। अभी सर्वे और सत्यापन का काम जारी है। ऐसे में अपात्रों की संख्या और ज्यादा भी बढ़ेगी। अपात्र लोगों के नाम सूची से हटाए जा रहे हैं। इसकी जिम्मेदारी पीडी डीआरडीए निभा रहे हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना के सत्यापन के दौरान अपात्रों को मिले आवासों की संख्या बढ़ती चली जा रही है। जैसे-जैसे सर्वे के दौरान सत्यापन किया जा रहा है, वैसे-वैसे इस योजना के तहत मिले अपात्रों को आवास आवंटन की सच्चाई भी सामने आ रही है।

जिले में में जिला स्तरीय विभागों के 40 अधिकारी प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण का सत्यापन की मॉनीटरिंग के लिए लगाए गए हैं। कई-कई ग्राम पंचायतों की जिम्मेदारी दी गई है। ग्राम पंचायत अधिकारी और ग्राम विकास अधिकारी को लाभार्थियों का सत्यापन कर अपात्रता की जांच करनी है। पीडी डीआरडीए सुशील सिंह ने बताया कि करीब 50 हजार लोगों ने करीब दो साल पहले आवेदन किया था। उनकी जांच और सत्यापन का काम चल रहा है। अब तक करीब 10 हजार अपात्र निकल चुके हैं।

188 नाम हटाए गए

मंगलवार तक 188 नाम सूची से ऑनलाइन हटा भी दिए गए हैं। जांच के दौरान ब्लॉक तालग्राम क्षेत्र की हसीना बेगम का पहले से ही कमरा और बरामदा बना मिला। प्रेमलता का पक्का मकान खड़ा है। ब्लॉक तालग्राम क्षेत्र से करीब 6 हजार आवेदन हुए थे। आवास के लिए 1133 अपात्र निकले हैं। पीडी डीआरडीए सुशील कुमार सिंह ने बताया कि कन्नौज जिले में दो साल पहले मोबाइल ऐप सर्वे हुआ था। उसका वेरीफिकेशन चल रहा है। पात्र और अपात्र देखे जा रहे हैं। ग्राम पंचायतों के सचिव की ओर से इसकी सूची पीडीएफ के माध्यम से ऑनलाइन लोड की गई है।
उसे देखकर कार्यवाही की जा रही है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 1.20 लाख रुपए दिया जाता है। साथ ही 90 दिन की करीब 18 हजार रुपए मनरेगा मजदूरी भी मिलती है। न होने पर 12 हजार रुपए का शौचालय भी एसबीएस ग्रामीण के तहत लाभार्थी को मिलता है। कुल डेढ़ लाख रुपए तीन तरह की योजनाओं पर मिलता है।

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *