सेलिब्रिटी विज्ञापन में स्पोर्ट्स स्टार्स ने बाजी मारी, फिल्‍मी सितारे पीछे छूटे

SPORTS

नई दिल्‍ली। कोरोना जैसी महामारी के बीच सेलिब्रिटी विज्ञापन की बात करें तो बॉलीवुड स्टार्स को मिलने वाले विज्ञापनों की संख्या घटी है और स्पोर्ट्स स्टार्स ने बाजी मार ली है। जुलाई-अगस्त के दौरान दिए गए सेलिब्रिटी विज्ञापन की बात करें तो क्रिकेटर्स के सामने बॉलीवुड स्टार्स टिक नहीं पाए हैं। इसकी एक बड़ी वजह विवादों को माना जा रहा है। महेंद्र सिंह धोनी, सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीरेंद्र सहवाग ने जुलाई-अगस्त में सेलिब्रिटी एडवर्टाइजिंग में फिर से एंट्री की, जबकि अमिताभ और करीना कपूर नीचे फिसल गए हैं। इन्हें मौका मिलने और हिंदी फिल्म इंडस्ट्री यानी बॉलीवुड के स्टार्स के पिछड़ने की वजह बॉलीवुड में चल रहे विवाद हैं। बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद ड्रग्स का एक खेल खुलता सा दिख रहा है, जो की बड़े-बड़े सेलिब्रिटी को अपनी चपेट में ले रहा है।

17 फीसदी बढ़ा है स्पोर्ट्स सेलिब्रिटी का विज्ञापन, कोहली नंबर-1

पिछले ही महीने धोनी ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी। रिपोर्ट के अनुसार फिलहाल स्पोर्ट्स सेलिब्रिटी के विज्ञापन साल दर साल के आधार पर पिछले दो महीने में 17 फीसदी तक बढ़ चुके हैं। TAM AdEx के अनुसार सबसे अधिक विज्ञापन विराट कोहली को मिल रहे हैं और उनके बाद धोनी, सचिन, गांगुली और सहवाग का नंबर आ रहा है।

30 फीसदी गिरा है बॉलीवुड सेलिब्रिटी का विज्ञापन, अमिताभ-करीना पिछड़े

बॉलीवुड सेलिब्रिटी को मिलने वाले विज्ञापनों में साल दर साल के आधार पर करीब 30 फीसदी की गिरावट आई है। बॉलीवुड के सेलिब्रिटी का विज्ञापन घटने की कई वजहें हैं। इसमें सुशांत सिंह राजपूत की मौत और चीन के खिलाफ लोगों की भावना है। जून, जुलाई और अगस्त में कोहली पहले नंबर पर हैं। जून में कोहली के बॉलीवुड सितारे थे लेकिन जुलाई अगस्त में दूसरे नंबर पर धोनी पहुंच गए। अमिताभ और करीना कपूर तीसरे और चौथे नंबर पर जा पहुंचे।

ब्रांड भी बचा रहे हैं विज्ञापन के पैसे

बड़ी सेलिब्रिटी विज्ञापन की डील मार्च से ही बहुत अधिक कम हुई पड़ी हैं। वहीं इंडस्ट्री के एक एग्जिक्युटिव ने बताया कि कोरोना काल में तमाम ब्रांड भी कम विज्ञापन कर रहे हैं और उसमें होने वाला खर्च बचा रहे हैं। इंडस्ट्री का मानना है कि बॉलीवुड सेलिब्रिटीज का विज्ञापन अभी और भी कम हो सकता है क्योंकि कई विवाद हैं जो सोशल मीडिया और टीवी चैनलों पर छाए रहते हैं।

-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *