आगरा: लॉकडाउन के चलते घरों में ही अदा की गई नमाज़, अमन-शांति के साथ कोरोना संक्रमण के ख़त्म होने की मांगी गयी दुआ

स्थानीय समाचार

आगरा। कोरोना काल में ईद उल अजहा (बकरीद) का त्यौहार बड़ी ही सादगी के साथ मनाया गया। ताजनगरी में लोगों ने इस बार ईद की नमाज को घरों में ही अदा की। शहर की प्रमुख मस्जिदों में सिर्फ में मस्जिद में ही रहने वाले व इंतजामिया कमेटी के लोगों ने ही नमाज अदा की। इस दौरान सभी लोगों ने कोरोना संक्रमण के जल्द से जल्द खत्म होने और देश मे अमन चैन की दुआ मांगी। घरों पर नमाज अदा करने के बाद सभी ने एक दूसरे को बकरीद की मुबारक बाद दी। बकरीद पर सुरक्षा के मद्देनजर मस्जिदों के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल भी तैनात किया गया था।

ईद-उल-अजहा जिसे बकरीद भी कहा जाता है यह इस्लाम के अनुसार त्याग और बलिदान का त्यौहार है। इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार यह हर साल जिलहिज्ज के महीने में मनाया जाता है। बकरीद का त्यौहार ईद-उल-फितर के लगभग 2 महीने बाद मनाया जाता है। इस्लाम का यह दूसरा बड़ा त्यौहार है जिसमें कुर्बानी देकर अल्लाह का शुक्रिया अदा किया जाता है। इस्लाम धर्म के अनुसार इसी दिन यानी ईद-उल-अजहा पर हजरत इब्राहिम ने अल्लाह के आदेश पर अपने बेटे हजरत इस्माइल की कुर्बानी दी थी। अल्लाह के प्रति श्रृद्धा दिखाते हुए इस मौके पर अपनी सबसे प्यारी चीजों की कुर्बानी दी जाती है।

ऑल इंडिया जमैतउल कुरेश के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हाजी जमीलउद्दीन कुरैशी का कहना है कि ईद उल अजहा त्याग व बलिदान का पर्व है। लगभग 60 वर्ष के हो चुके हैं लेकिन छह दशकों में पहली बार उन्होंने ऐसा दृश्य देखा है कि लोग ईद पर मस्जिदों में जाकर नमाज अदा नहीं कर सके। कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार मस्जिदों में नमाज अदा करने की अनुमति जिला प्रशासन ने नहीं दी थी जिसके चलते सभी मुस्लिम भाइयों ने घरों में ही नमाज अदा कर ईद को मना रहे हैं।

उत्तर प्रदेश मुस्लिम महापंचायत के सरपंच नदीम नूर का कहना है कि इस बार ईद उल फितर और ईद उल अजहा दोनों ही लॉकडाउन में मनाई गयी है। लॉकडाउन के कारण दोनों ही ईद पर मुस्लिम भाई मस्जिदों में नहीं पहुंच पाए हैं। यह पहली बार हुआ है कि जब ईद की नमाज समाज के लोगों ने मस्जिदों में ना अदा कर घरों में अदा की है। इस दौरान देश में अमन चैन और कोरोना संक्रमण को जल्द खत्म करने की दुआ की गई। नदीम नूर ने बताया कि मस्जिदों के नमाज अदा न कर पाने के कारण कुर्बानी भी दोपहर बाद हो सकेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *