सिंधु दर्शन पूजा करने के बाद पीएम मोदी ने चीन को सिखाई ‘बुद्ध नीति’

Exclusive

लेह। लेह से खरी-खोटी सुनाने के अगले दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीन को ‘बुद्ध नीति’ का पाठ पढ़ाया। शनिवार को धर्म चक्र दिवस/आषाढ़ पूर्णिमा के मौके पर वर्चुअल बौद्ध सम्‍मेलन में पीएम मोदी ने कहा कि ‘हम बुद्ध के विचारों से चुनौती से निपटेंगे।’ उन्‍होंने कहा कि ‘आज दुनिया के सामने असाधारण चुनौतियां हैं। इन चुनौतियों का सामना करने के लिए, इनका हल भगवान बुद्ध के आदर्शों से निकल सकता है। वे पहले भी प्रासंगिक थे। आज भी प्रासंगिक हैं और भविष्‍य में भी प्रासंगिक रहेंगे।’


‘युवा दूर करेंगे दुनिया की परेशानियां’


पीएम मोदी ने कहा कि ‘मैं 21वीं सदी को लेकर बहुत आशावान हूं। ये आशा मुझे मेरे नौजवान दोस्‍तों से मिलती है। अगर आप इस बात का एक बढ़‍िया उदाहरण देखना चाहें कि कैसे आशा, सृजनशीलता और दया के जरिए दुख दूर किया जा सकता है तो हमारे युवाओं के नेतृत्‍व में चल रहे स्‍टार्ट-अप सेक्‍टर को देख सकते हैं।’


उन्‍होंने कहा कि ‘ग्‍लोबल प्रॉब्‍लम्‍स का हल ये नौजवान निकाल रहे हैं। भारत के पास दुनिया के सबसे बड़े स्‍टार्ट-अप ईको-सिस्‍टम्‍स में से एक है, मैं अपने नौजवान दोस्‍तों से अपील करूंगा कि वे भगवान बुद्ध के विचारों से जुड़े रहें।’


चीन की ‘विस्‍तारवादी’ नीति पर किया करारा प्रहार


शुक्रवार को पीएम मोदी अचानक लेह पहुंच गए थे। यहां नीमू में सैनिकों के सामने उन्‍होंने चीन को खूब सुनाया। चीन की ‘विस्‍तारवादी’ नीति पर करारा वार करते हुए पीएम ने कहा कि ‘बीती शताब्दियों में विस्‍तारवाद ने मानवता का सबसे ज्‍यादा अहित किया है।’ उन्‍होंने इशारों में चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि ‘इतिहास गवाह है ऐसी ताकतें मिट गई हैं या मुड़ने के लिए मजबूर हो गई हैं।’ उन्‍होंने कहा कि ‘विस्‍तारवाद का युग समाप्‍त हो चुका है, यह विकासवाद का युग है।’ चीन के खिलाफ ग्‍लोबल यूनिटी के संकेत देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘पूरे विश्‍व ने विस्‍तारवाद के खिलाफ मन बना लिया है।’


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शुक्रवार को अचानक लद्दाख दौरे ने सबको हैरत में डाल दिया था। भारत और चीन के बीच जारी तनातनी और सीमा पर तनाव वाली स्थिति के बीच प्रधानमंत्री का जवानों के बीच जाना सेना का मनोबल बढ़ाने वाला कदम माना जा रहा है। लेह के अपने दौरे में प्रधानमंत्री ने सेना के जवानों से बातचीत की और चीन को कड़ा संदेश भी दिया।


इन सबके अलावा फॉरवर्ड ब्रिगेड प्लेस निमू में पीएम ने सिंधु दर्शन पूजा भी की। मोदी के सिंधु दर्शन पूजा का वीडियो शनिवार को सामने आया। वीडियो में प्रधानमंत्री के साथ सीडीएस विपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे भी दिखाई दे रहे हैं। प्रधानमंत्री ने यहां जवानों को संबोधित भी किया। उन्होंने इशारों-इशारों में चीन को संदेश देते हुए कहा कि अब विस्तारवाद का जमाना चला गया है और विकासवाद का वक्त है। उन्होंने चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि ऐसी विस्तारवादी ताकतें मिट जाया करती हैं।


जवानों की हरसंभव मदद


जवानों से बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भारत के लोग बांसुरी वाले कृष्ण की पूजा करते हैं लेकिन यहां सुदर्शन चक्रधारी कृष्ण को भी आदर्श माना जाता है। पीएम ने कहा कि जब-जब वह राष्ट्र रक्षा से जुड़े फैसले के बारे में सोचते हैं तो सबसे पहले दो माताओं को याद करते हैं। पहली हमारी भारत माता, दूसरी वे वीर माताएं जिन्होंने सैनिकों को जन्म दिया। इसके बाद पीएम ने कहा कि जवानों के सुरक्षा उपकरणों और हथियारों की हरसंभव मदद की कोशिश सरकार कर रही है।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लेह दौरे से चीन परेशान है। चीन के विदेश मंत्रालय ने इसे लेकर कहा कि किसी भी पक्ष को ऐसा काम नहीं करना चाहिए जिससे इस मौके पर माहौल और ज्‍यादा खराब हो जाए। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ ल‍िजिन ने कहा कि माहौल को हल्‍का करने के लिए भारत और चीन संपर्क में हैं।


-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *