हॉन्ग कॉन्ग में दमन के मुद्दे को लेकर ट्रंप ने चीन के चार अधिकारी प्रतिबंधित किए

INTERNATIONAL

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में हार के बाद डोनाल्ड ट्रंप चीन के खिलाफ और आक्रामक रुख अख्तियार करते दिखाई दे रहे हैं। अपने कार्यकाल के खत्म होने से 72 दिन पहले ही उन्होंने हॉन्ग कॉन्ग में राजनीतिक अधिकारों के दमन के मुद्दे पर चीन के चार और अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की। सोमवार को अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि इन चारों की अमेरिका यात्रा और यहां किसी भी तरह की संपत्ति हासिल करने पर रोक लगाई जाएगी।

चीन के नए कानून से भड़का हुआ है अमेरिका

अमेरिका ने इन अधिकारियों को हॉन्ग कॉन्ग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लागू कराने में उनकी भूमिका के लिए प्रतिबंधित किया है क्योंकि अमेरिका इस कानून को अभिव्यक्ति की स्वंत्रता और विपक्ष की राजनीति को बेहद कड़ाई से दबाने के रूप में देखता है। यह कानून जून में पारित हुआ था। अमेरिका इससे पहले भी कई अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा चुका है, जिनमें हॉन्ग कॉन्ग की मुख्य कार्यकारी अधिकारी कैरी लाम भी शामिल हैं।

लोकतंत्र समर्थक नेताओं के खिलाफ एक्शन की तैयारी में चीन

सोमवार का यह फैसला ऐसे समय में आया है जब हॉन्ग कॉन्ग के 19 लोकतंत्र समर्थक सांसदों ने कहा है कि अगर पेइचिंग उनमें से किसी एक को भी अयोग्य करार देता है तो वे शहर की विधायिका परिषद से बड़ी संख्या में इस्तीफा देंगे। अपुष्ट खबरों में कहा गया था कि चीन की नेशनल पीपुल्स कांग्रेस की स्थायी समिति इनमें से चार को अयोग्य करार देने की तैयारी कर रही है।

पहले से जताया जा रहा था चीन के खिलाफ एक्शन का संदेह

पहले से ही यह अंदेशा जताया जा रहा था कि ट्रंप जाते-जाते कुछ ऐसे फैसले ले सकते हैं जो नए राष्ट्रपति बाइडेन के लिए सिरदर्द साबित हो सकता है। कई एक्सपर्ट्स ने कहा था कि अमेरिका के विदेश नीति में ट्रंप जब चाहें तक एक्जिक्यूटिव ऑर्डर या एजेंसी रूल मेकिंग के अनुसार परिवर्तन कर सकते हैं। इसके लिए उन्हें सीनेट की मंजूरी प्राप्त करने की बाध्यता नहीं है। इसके जरिए भी ट्रंप पेइचिंग के खिलाफ कोई कड़ा निर्णय ले सकते हैं।

चीन के खिलाफ क्या फैसला ले सकते हैं ट्रंप?

इसके अलावा ट्रंप शिनजियांग में उइगुर मुसलमानों की नजरबंदी और नरसंहार के लिए चीन को दोषी ठहरा सकते हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के कुछ दिन पहले ही राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओब्रायन ने चीन के ऊपर शिनजियांग में नरसंहार करने का आरोप लगाया था। इसके अलावा ट्रंप चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के अधिकारियों के वीजा पर पाबंदी लगा सकते हैं। ऐसा भी माना जा रहा है कि 2022 में चीन में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक में शामिल न होने के लिए अमेरिकी एथलीटों को आदेश देने का प्रयास कर सकते हैं।

-एजेंसियां

up18news

Leave a Reply

Your email address will not be published.