वर्चुअल संवाद में पीएम मोदी ने की सबसे पहले आगरा की प्रीति से बात

National

आगरा। देश को आत्मनिर्भर भारत बनाने की दिशा में आगे बढ़ाने के लिए शुरू किए गए पीएम स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि योजना के अंतर्गत मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के रेहड़ी-पटरी व्यवसायियों से वर्चुअल संवाद किया, जिसमें सबसे पहले आगरा की प्रीति को पीएम मोदी से संवाद करने का मौका मिला।

संवाद के दौरान फल की रेहड़ी लगाने वाली प्रीति ने पीएम मोदी को बताया कि लॉकडाउन के दौरान उनका व्यापार पूरी तरह से नष्ट हो गया था लेकिन फिर इस योजना के अंतर्गत ₹10000 का ऋण लेकर उन्होंने नई शुरुआत की है। इसके लिए उन्होंने पीएम मोदी और सीएम योगी दोनों को धन्यवाद दिया। जनसंवाद के दौरान आगरा डीएम सभागार में राज्यमंत्री डॉ. जीएस धर्मेश, महापौर नवीन जैन, डीएम प्रभु एन सिंह, डूडा अधिकारी संजय पथरिया सहित समस्त अधिकारी मौजूद रहे।

सबसे पहले आगरा की प्रीति से हुआ संवाद

वर्चुअल संवाद की शुरुआत में सीएम योगी ने सबसे पहले उद्बोधन दिया जिसमें उन्होंने विशेष माइक्रो क्रेडिट स्कीम के अंतर्गत लगभग 2 लाख 73 हजार पटरी व्यवसाई करने वाले लोगों को लोन दिए जाने की जानकारी दी। इसके बाद पीएम मोदी ने मुख्यतः आगरा, वाराणसी और लखनऊ के पटरी व्यवसाय करने वाले व्यापारियों से बात की जिसमें सबसे पहले नंबर आगरा की ताजगंज निवासी प्रीति का आया। पीएम मोदी ने प्रीति से उनके परिवार का हाल चाल लेते हुए पूछा कि लॉकडाउन में उन्होंने अपना जीवन कैसे चलाया और यह लोन मिलने के बाद उसकी जिंदगी में क्या बदलाव आया है।

प्रीति ने बताया कि लॉकडाउन में उनका व्यापार पूरी तरह खत्म हो गया था लेकिन आपके द्वारा महिलाओं को सीधे बैंक अकाउंट में दी गई आर्थिक मदद और सरकारी राशन से उनके परिवार का जैसे तैसे भरण-पोषण चलता रहा। अब लोन के रूप में मिले 10 हज़ार से मैंने फल की ठेल लगाई, नवरात्रि में उनकी अच्छी बिक्री हुई।

जब संवाद के दौरान पीएम मोदी खिलखिला कर हंसे

संवाद के दौरान पीएम मोदी ने फ़ल ठेल पर रखी बारकोड स्कैनर की तरफ इशारा करके पूछा कि यह क्या है तो प्रीति ने बताया कि कई लोग डिजिटल भुगतान से ही फल खरीदते हैं, उन्हें इस बारे में कोई जानकारी तो नहीं है लेकिन उन्होंने बोलने वाली मशीन लगा रखी है। यह कहते हुए प्रीति ने इस मशीन को माइक पर लगाकर पीएम मोदी को सुनाया कि मशीन पेमेंट भुगतान होने के बाद बोलती है कि आप का भुगतान हो गया है। प्रीति ने मोदी जी से कहा कि ‘क्या आपने सुना’ यह सुनते ही मोदी और सीएम योगी सहित सभागार में मौजूद सभी लोग खिलखिला कर हंस पड़े। फिर मोदी ने कहा कि ‘हाँ हमने सुना’। इसके बाद प्रीति ने कहा कि अब मुझे कोई बेवकूफ नहीं बना सकता कि भुगतान हुआ या नहीं। उसके बाद पीएम मोदी ने इसी तरह वाराणसी और लखनऊ में भी पटरी व्यवसायियों से बात की।

इसके बाद पीएम मोदी ने अपना संबोधन देते हुए बताया कि लोगों को पहले बैंक के कई चक्कर लगाने पड़ते थे। पटरी-रेहड़ी वाले कभी बैंक नहीं जाते थे लेकिन अब स्थिति बदल रही है। आप सभी के चेहरे पर खुशी देख कर मुझे भी संतोष हो रहा है। मोदी ने कहा कि सामान्य जीवन जीने वाली आगरा की प्रीति आज आत्मविश्वास के साथ आर्थिक रूप से मजबूत बनने के लिए खड़ी हुई है। आत्मनिर्भर भारत की दिशा में यह देश आपके इस योगदान को पहचान रहा है। पीएम मोदी ने बताया कि हमने इस बात का भी ध्यान रखा है कि रेहड़ी-पटरी वाले लोगों को आगे भी आर्थिक दिक्कत ना हो। इसलिये जो अपना यह 10 हज़ार का लोन समय पर चुका देंगे तो उन्हें भविष्य में 20 हज़ार का ऋण दिलाने की और व्यवस्था की गई है।

वर्चुअल संवाद कार्यक्रम खत्म होने पर पीएम मोदी और आगरा की प्रीति से हुए वर्चुअल संवाद से उत्साहित आगरा डीएम प्रभु एन सिंह ने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे इसी तरह शहर में जगह-जगह कैंप लगाकर रेहड़ी और पटरी व्यवसाय करने वाले लोगों को यह लोन उपलब्ध कराएं। ताकि शहर में किसी भी पटरी व्यवसाई को आर्थिक रूप से दिक्कत ना आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *