लेखक नीलमणि फूकन व दामोदर माउजो को 56वां व 57वां ज्ञानपीठ अवार्ड

National

नई द‍िल्‍ली। देश में साह‍ित्‍य के सर्वोच्‍च सम्‍मान ज्ञानपीठ पुरस्‍कार (Jnanpith Award ) से सम्‍मान‍ित होने वाली साह‍ित्‍य‍िक हसत‍ियों के नाम की आज घोषणा कर दी गई। कोरोना के कारण इस बार 56 वें व 57वें पुरस्‍कारों को एकसाथ घोष‍ित क‍िया गया है।

इसमें असमियां भाषा के जानेमाने कथाकार नीलमणि फूकन को वर्ष 2021 का 56 वां ज्ञानपीठ पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई है। असम के गोलघाट जिले में 10 सितंबर 1933 को जन्मे नीलमणि फूंकन मूलत: असमिया भाषा के भारतीय कवि और कथाकार हैं।

वर्ष 2022 के लिए 57 वें ज्ञानपीठ पुरस्कार जाने-माने कोंकणी लेखक दामोदर मौज़ो को प्रदान किया जाएगा। दामोदर मौज़ो गोवा के उपन्यासकार, कथाकार, आलोचक और निबन्धकार हैं। इनके द्वारा रचित एक उपन्यास कार्मेलिन के लिये उन्हें सन् 1983 में साहित्य अकादमी पुरस्कार (कोंकणी) से सम्मानित किया जा चुका है।

दामोदर माऊज़ो का जन्म 1 अगस्त 1944 को हुआ था। इनकी अब तक 4 कहानी संग्रह प्रकाशित हो चुकी है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published.