बदांयू: राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर विचार गोष्ठी आयोजित

Press Release

सूचना अधिकार अधिनियम में संशोधन हेतु राष्ट्रपति को प्रेषित किया दस सूत्रीय ज्ञापन।

व्यवस्था सुधार मिशन की सफलता के लिए आवश्यक है सरदार पटेल जैसी दृढ़ संकल्प शक्ति।

राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के तत्वावधान में सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 को व्यावहारिक एवं लोकोपयोगी बनाने के उद्देश्य से संशोधन की माँग को लेकर जिलाधिकारी के माध्यम से दस सूत्रीय ज्ञापन राष्ट्रपति महोदय को प्रेषित किया गया।

तदन्तर सहयोगी संगठन भारतीय हिंदी सेवी पंचायत के तत्वावधान में संगोष्ठी का आयोजन भगवान परशुराम इण्टर कालेज नेकपुर में जनपद के प्रसिद्ध शिक्षाविद रामबहादुर पाण्डेय की अध्यक्षता में किया गया। संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में गोविंद बल्लभ पंत महाविद्यालय कछला के प्रबंधक पंडित रामाशंकर भारद्वाज उपस्थित रहे।

सर्वप्रथम राष्ट्र “” राग रघुपति राघव राजाराम…….”” का कीर्तन किया गया तत्पश्चात ध्येय गीत ” जीवन में कुछ करना है तो मन को मारे मत बैठो ” का सामुहिक गायन किया गया।

मुख्य अतिथि पंडित रामाशंकर भारद्वाज ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि भारत का जो वर्तमान भौगोलिक स्वरूप दिखाई दे रहा है, उसका श्रेय देश के प्रथम उप प्रधानमंत्री व गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल को जाता है। हम सबका दुर्भाग्य रहा कि आज़ादी के बाद सरदार पटेल का मार्गदर्शन देशवासियों को बहुत कम समय मिला। देशवासियों को सरदार पटेल के विचारों से प्रेरणा लेनी चाहिए तथा नयी पीढ़ी को उनके बताये हुए पथ पर चलने हेतु उनका जीवन चरित्र पढ़ने को प्रेरित करना चाहिए।

भ्रष्टाचार मुक्ति अभियान के मुख्य प्रवर्तक हरि प्रताप सिंह राठोड़ एडवोकेट ने कहा कि वर्तमान भारतीय राजनैतिक परिदृश्य में सरदार पटेल जैसी परम्परा के राजनेताओं का सर्वथा अभाव है। राजनीति में ईमानदारी और शुचिता जैसे शब्दों का प्रयोग बंद हो गया है। भारत सरकार को सरदार पटेल के नाम से एक प्रशिक्षण केन्द्र की स्थापना करनी चाहिए जिसमें चुनाव लड़ने वाले संभावित नेताओं एवं जनप्रतिनिधियों के समयबद्ध प्रशिक्षण के पाठ्यक्रम संचालित हो। ताकि सरदार पटेल की परंपरा के नेताओं का निर्माण हो सके। देश के नागरिकों को जनोपयोगी व्यवस्थाओं का प्रशिक्षण लेना आवश्यक है । जिससे वे लोकसेवकों की निगरानी करने में समर्थ हो सके

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से धनपाल सिंह, एस सी गुप्ता, डाल भगवान सिंह, एम एल गुप्ता, राजेश गुप्ता, कैप्टन राम सिंह, एम एच कादरी, अभय माहेश्वरी, वीरेंद्र कुमार, असद अहमद, अरएन्द्र पाल सिंह, महेश चंद्र, अमीरुद्दीन, सुभाष चंद्र, अरविंद कुमार, सतेन्द्र सिंह, नेत्र पाल सिंह, समीरूद्दीन अन्सारी एडवोकेट, सत्यवीर सिंह, शोएब खान, राशिद अली खान, जयकिशन लाल शर्मा, मनोज कुमार, भुवनेश कुमार, सुजान सिंह, उमाशंकर, अरविंद राठी, रहीश अहमद, उर्मिला शर्मा, अर्चना पाठक, नीतू शंखधार, ज्योत्स्ना, शालिनी गुप्ता, निशी शर्मा, गुडडू सिंह,विकास यादव, सुरजेश, ज्योति सागर, कशिश सिंह, रितिक पाल, महावीर सिंह, बबलू मिश्रा, हिमांशु मिश्र, रूबी राठौर, प्रियंका माहेश्वरी आदि उपस्थित रहे।

संगोष्ठी का संचालन भारतीय हिंदी सेवी पंचायत के संयोजक कवि पवन शंखधार ने किया तथा पंचायत के जिला अध्यक्ष विनोद सूर्यवंशी ने सभी का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *