जयपुर: किराना किंग, ग्रोसरी रिटेल एग्रीगेटर; ( RaaS ) रिटेल एज ए सर्विस ने आरवीसीएफ के प्री-सीरीज ए राउंड में 7 करोड़ रुपए जुटाए

Business

जयपुर, 10 नवंबर, 2020ः किराना किंग रिटेल नेटवर्क प्राइवेट लिमिटेड की एक इकाई जयपुर आधारित फर्म किराना किंग ने राजस्थान वेंचर कैपिटल फंड (आरवीसीएफ) के प्री-सीरीज ए राउंड में 7 करोड़ रुपए जुटाए हैं। किराना किंग ने 2017 में अपना रिटेल एग्रीगेशन ऑपरेशन शुरू किया और आज राजस्थान के जयपुर में इसका 200 से अधिक स्टोर्स का किराना रिटेल नेटवर्क है। 3 साल की अवधि के भीतर, किराना किंग ने अकेले जयपुर में अपने नेटवर्क को 200 से अधिक स्टोर तक बढ़ा दिया जो कि शायद भारत में किराना के रिटेल बाजार में एक सिटी वाइज स्टोर में किसी एकल ब्रांड के तहत सबसे अधिक स्टोर है।

किराना किंग का लक्ष्य अब राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में अपने परिचालन का विस्तार करना है और साल 2021 के अंत तक 1000 स्टोर हासिल करने का लक्ष्य तय किया गया है। कंपनी 2025 तक भारत में एक शक्तिशाली किराना रिटेल एग्रीगेटर कंपनी बनने की उम्मीद में है। पिछले वर्ष की तुलना में किराना किंग का लक्ष्य, मौजूदा वित्त वर्ष में चार गुणा अधिक राजस्व अर्जित करना है।

किराना किंग अपने ; ( RaaS ) रिटेल एज ए सर्विस के जरिए पारंपरिक किराना स्टोरों को सेवाओं की एक शृंखला प्रदान करता है, इसमें स्टोर का कायाकल्प, विस्तृत और सुविधाजनक स्टोर लेआउट, इन स्टोर्स के लिए सप्लाई चेन की व्यवस्था और उपभोक्ताओं के बीच इन स्टोर की मार्केटिंग ताकि अधिक उपभोक्ता स्टोर्स पर आए, डिजिटल समाधान, ईकामर्स की सुविधा और किराना इको-सिस्टम का प्रशिक्षण और विकास। यह सब मिल कर भारत में किराना रिटेल बाजार की संपूर्ण मूल्य श्रृंखला में सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति ‘किराना स्टोर मालिक’ को सशक्त बनाती है। ( RaaS ) मॉडल किराना उपभोक्ताओं की राह के प्रमुख टचपॉइंट्स को प्रभावित करता है जब वे अपने स्थानीय पड़ोस के स्टोरों पर खरीदारी करते हैं तो उन्हें इन स्टोरों पर परिचालन और सुविधा में बड़े पैमाने पर बदलावों का एहसास होता है जो इस प्रारूप में सबसे महत्वपूर्ण चालक हैं और कुछ ऐसा है जो भारतीय किराना उद्यम से गायब था। यह पारम्परिक स्टोर मालिकों से ही खरीद को आगे भी प्रोत्साहित करता है।

किराना किंग के फाउंडर और सीईओ श्री अनूप कुमार कहते हैं, ‘हमने किराना किंग के हमारे विचार को दो शब्दों-सशक्तीकरण और परिवर्तन में परिभाषित किया है, क्योंकि दुनिया भर में अधिकांश गतिशील और क्रांतिकारी उत्पाद या सेवाएं इन दो से ही संचालित होती है, सशक्तिकरण और परिवर्तन। हमने भारत में किराना रिटेल इको-सिस्टम में गंभीर अड़चनों के रूप में काम कर रहे लापता लिंक की विस्तार से स्टडी की। हमने भारत में किराना रिटेल की बहुत धीमी गति के कारणों को खंगालने की कोशिश की। जबकि हमारे आसपास की अन्य उभरती अर्थव्यवस्थाएं जैसे कि मध्य पूर्व या दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र में सुविधा स्टोर प्रारूप में वृद्धि देखी जा रही है।’

श्री अनूप कुमार ने आगे कहा, ‘हमारे शोध का निष्कर्ष निकला कि पारंपरिक किराना स्टोर के लिए पर्याप्त सशक्तीकरण ही पर्याप्त नहीं है, किराना रिटेल की पूरी मूल्य शृंखला ही टुकड़ों-टुकड़ों में खंडित है। परिवर्तन की अनिच्छा भी एक बड़ा कारण रहा। जब मैं भारत के विभिन्न हिस्सों में गया और हजारों किराना स्टोरों का दौरा किया। एक बात मेरे लिए स्पष्ट हो गई कि जहां तक किराना स्टोर्स में उपलब्ध संसाधनों की बात आती है तो कोई समस्या नहीं है, लेकिन एक समझ वाले प्लेटफार्म की कमी थी जो किराना रिटेल के इस विशाल क्षेत्र में सिंगल विंडो सेवा के रूप में काम कर सकता है। हम ऐसा समझते हैं कि हमें किराना स्टोर मालिकों के साथ अपनी सोच को मिला कर चलने की जरूरत है।

अनूप कुमार ने मध्य पूर्व और दक्षिण-पूर्व एशिया में किराना रिटेल में भारी बदलाव को नजदीक से जांचा-परखा। एक उद्यम के रूप में ‘जब किराना किंग ने अपने रिटेल में सेवा-आधारित कंपनी को शुरू किया तो किराना की दुकान के मालिकों का विरोध धीरे-धीरे नीचे आया। ब्रांड के पास भारत के दूर-दराज के कोनों से स्टोर मालिकों की इच्छा देखी जो जो ब्रांड किराना किंग के नेटवर्क में शामिल होना चाहते थे। अब किराना किंग अपने खुदरा नेटवर्क, जनशक्ति, वृद्धि और प्रौद्योगिकी के विकास का विस्तार करने के लिए हाल ही में जुटाए गए धन का उपयोग करना चाहता है।

आरवीसीएफ के वीपी श्री गौरव चैधरी ने कहा, ‘‘भारत किराना या किराना रिटेल के क्षेत्र में पर्याप्त बदलाव और विकास देख रहा है। न केवल कुछ बड़े कॉर्पोरेट घराने बल्कि किराना किंग जैसे कुछ मजबूत क्षेत्रीय खिलाड़ी भी उभर रहे हैं। हमारे पास जमीनी अनुभव है। प्रौद्योगिकी का लाभ, किराने की रिटेल बिक्री के लिए विकसित की गई बहुत विशिष्ट व्यावसायिक प्रक्रिया, नजदीकी किराना स्टोर के मालिकों की विचार प्रक्रिया और किराने के खुदरा पारिस्थितिकी तंत्र में शामिल सभी हितधारकों के लिए मूल्य पैदा करना। हमारे जैसे शुरुआती चरण के निवेशक के लिए अपनी ( RaaS ) जैसी यूएसपी के रूप में किराना किंग हमें बेहद संभावनाओं से भरपूर कंपनी नजर आ रही है। हम किराना किंग के विस्तार के इस दौर में उनके साथ काम करने के लिए उत्साहित हैं।

Narendra Arya
Adfactors PR

up18news

Leave a Reply

Your email address will not be published.