चीन तथा अमेरिका के बीच विवाद और गहराया, चीन ने दी चेतावनी

INTERNATIONAL

पेइचिंग। चीन और अमेरिका के बीच चीनी सेना से जुड़े विद्वानों को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। चीन ने अमेरिका को चेतावनी दी है कि वह अमेरिका के जस्टिस डिपार्टमेंट के चीनी सेना जुड़े विद्वानों के खिलाफ मामला चलाए जाने पर अपने यहां रह रहे अमेरिकी नागरिकों को ह‍िरासत में ले सकता है। अमेरिकी अखबार वॉल स्‍ट्रीट जनरल ने शनिवार को यह जानकारी दी।

अमेरिकी अखबार ने इस मामले से जुड़े लोगों के हवाले से कहा कि चीनी अधिकारी कई माध्‍यमों से अमेरिकी सरकार के अधिकारियों को इस संबंध में चेतावनी दे चुके हैं। अखबार ने कहा कि चीन ने संदेश दिया है कि अमेरिका को चीनी अधिकारियों के खिलाफ अमेरिकी कोर्ट में चल रहे मुकदमे को खत्‍म करना चाहिए नहीं तो चीन में रह रहे अमेरिकी नागरिक खुद को चीनी कानूनों के उल्‍लंघन के आरोप में दोषी पाए जा सकते हैं।

एफबीआई ने तीन चीनी नागरिकों को अरेस्‍ट किया

इससे पहले 14 सितंबर को अमेरिका के विदेश मंत्रालय की ओर से चीन की यात्रा को लेकर जारी चेतावनी में कहा गया है कि चीन सरकार अमेरिकी नागरिकों को हिरासत में ले सकती है और उनके बाहर जाने पर प्रतिबंध लगा सकती है। चीन के इस कदम का मकसद विदेशी सरकारों के साथ मोलतोल करना है। अमेरिका में चीन के दूतावास ने अभी तक इस संबंध में कोई बयान नहीं जारी किया है।

बता दें कि अमेरिका के ट्रंप प्रशासन ने कई बार यह आरोप लगाया है कि चीन अमेरिकी तकनीकों और सैन्‍य जानकारी की चोरी के लिए साइबर अभियान चला रहा है ताकि वह अमेरिका को पीछे छोड़ दे। उधर, चीन ने अमेर‍िका के इन आरोपों को खारिज किया है। इससे पहले जुलाई में अमेरिका के न्‍याय विभाग ने कहा था एफबीआई ने तीन चीनी नागरिकों को अरेस्‍ट किया है। इन पर वीजा के लिए आवेदन देते समय चीनी सेना के सदस्‍यता की जानकारी को छिपाने का आरोप लगा है। अमेरिका ने पिछले महीने चीन के एक हजार नागरिकों का वीजा खत्‍म कर‍ दिया था।

-एजेंसियां

up18news

Leave a Reply

Your email address will not be published.