आगरा: फ्लिपकार्ट कंपनी के दुर्व्यवहार से आहत ग्राहक अभिनव ने दिया “डिस्कार्ड फ्लिपकार्ट” का नारा..

Press Release

ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त रहें सावधान..

एक जागरूक युवा उपभोक्ता अभिनव बंसल ने किया फ्लिपकार्ट के फ्रॉड का खुलासा..

फ्लिपकार्ट की ‘बिग बिलियन डेज सेल’ को बताया ग्राहकों के साथ ठगी का तरीका, प्रेस वार्ता द्वारा किया आमजन को जागरूक

फ्लिपकार्ट कंपनी और उसके डिलीवरी एग्जीक्यूटिव के दुर्व्यवहार से आहत ग्राहक अभिनव ने दिया “डिस्कार्ड फ्लिपकार्ट” का नारा..

आगरा। ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते दौर में आए दिन कंपनियों द्वारा किसी न किसी रूप में ग्राहकों के साथ धोखाधड़ी चलती ही रहती है। ज्यादातर मामलों में धोखाधड़ी के शिकार हुए ग्राहक चुप होकर बैठ जाते हैं। ऐसे में फ्लिपकार्ट कंपनी और उसके डिलीवरी एग्जीक्यूटिव के दुर्व्यवहार और फ्रॉड से आहत हुए संत नगर फेस-2, दयालबाग निवासी एक युवा जागरुक ग्राहक अभिनव बंसल ने अपने घर पर बुधवार को प्रेस वार्ता आयोजित कर हर खास-ओ-आम को ऑनलाइन शॉपिंग करते वक्त सावधान रहने की अपील की।

अभिनव ने “डिस्कार्ड फ्लिपकार्ट” का नारा देते हुए पत्रकारों को बताया कि वह विगत 6 माह से अपनी जेब के अनुरूप अफोर्डेबल एक आईफोन एस ई लेने के लिए पाई-पाई बचा रहा था। फाइनली फ्लिपकार्ट की बिग बिलियन डेज सेल पर जब उसको बेहतर एक्सचेंज ऑफर की डील मिली तो उसने अपने पुराने फोन के बदले नया फोन लेने के लिए 15 अक्टूबर 2020 को दोपहर 12:28 बजे ऑनलाइन आर्डर (ऑर्डर आईडी OD 219960015696973000) कर दिया और इसके लिए कंपनी द्वारा उपलब्ध बैंक डिस्काउंट के 1250 और पुराने फोन के 2350 रुपये कम करके ₹22400 का पूरा भुगतान ऑनलाइन जमा कर दिया।

अभिनव ने बताया कि 17 अक्टूबर को मुझे फ्लिपकार्ट से संदेश मिला जिसमें डिलीवरी एग्जीक्यूटिव का मोबाइल नंबर 07052054321 लिखा था। दोपहर लगभग 3:00 बजे डिलीवरी एग्जीक्यूटिव मेरे घर आया। जब मैंने उसे नया फोन लेने के लिए पुराना फोन दिया तो उसने मेरा पुराना फोन लेने से यह कहकर इंकार कर दिया कि इस फोन में स्क्रीन क्रैक्स हैं।

इस बात पर जब मैंने उसे फ्लिपकार्ट की एक्सचेंज गाइडलाइंस का हवाला देते हुए बताया कि गाइडलाइंस में साफ लिखा है कि स्क्रीन क्रेक्स होते हुए भी फ्लिपकार्ट द्वारा फोन ले लिया जाएगा तो इस पर उसने मेरा मुंह झाड़ते हुए कहा कि “हमें फ्लिपकार्ट से कोई मतलब नहीं है। मैंने कह दिया तो यह फोन वापस नहीं होगा। अगर नया फोन चाहिए तो नगद ₹2350 और दो। मैं अपना टाइम वेस्ट करने यहां नहीं आया हूं..”

फ्लिपकार्ट के एग्जीक्यूटिव द्वारा किए गए अपमानजनक व्यवहार से मुझे गहरा धक्का लगा। इससे पहले कि मैं इससे उबर पाता, वह मेरा प्रोडक्ट लेकर भाग गया जिसका कि मैं पूरा भुगतान पहले ही कंपनी को कर चुका था। उसके जाने के बाद मैंने फ्लिपकार्ट के कस्टमर हेल्पलाइन नंबर पर कंप्लेंट दर्ज करने की कोशिश की तो उनकी फीमेल एग्जिक्यूटिव ने सीनियर से कॉल कनेक्ट करने की कह कर मेरा कॉल 25 मिनट तक होल्ड पर रखा। कोई प्रतिक्रिया न मिलने पर मैंने थक-हार कर फोन काट दिया। मैंने पुनः प्रयास किया। फिर दूसरे एग्जीक्यूटिव को मैंने पूरा केस एक्सप्लेन किया और उससे गुजारिश की, कि मेरा फोन अब होल्ड पर मत रखना तो उसने मुझसे बोला कि मैं सीनियर से बात करता हूं। उसने भी 10 मिनट होल्ड पर रख कर मेरा फोन काट दिया।
इस सब से परेशान होकर मैंने फ्लिपकार्ट सपोर्ट पर अपनी शिकायत दर्ज कराई।

17 अक्टूबर को शाम 6:16 बजे अपने ट्विटर अकाउंट पर भी अपना दर्द बयां किया। 18 अक्टूबर को शाम 7:00 बजे मैंने दोबारा ट्वीट किया। 19 अक्टूबर को मैंने अपने फेसबुक अकाउंट पर अपना दर्द बयां किया तो कई ग्राहकों ने उस पोस्ट पर बताया कि वह भी फ्लिपकार्ट द्वारा उसी प्रकार फ्रौड का शिकार हुए हैं, पर अभी तक उनकी भी कोई सुनवाई नहीं हुई है।

अभिनव ने कहा कि वह अब फ्लिपकार्ट कंपनी के विरुद्ध कंज्यूमर फोरम में मुकदमा दर्ज कराएंगे। साथ ही, उसके विरुद्ध जन संचार के माध्यमों का उपयोग करते हुए आमजन को जागरूक करते रहेंगे। उसने बताया कि वह सीए की पढ़ाई जारी रखते हुए जागो ग्राहक जागो अभियान भी चलाते रहेंगे ताकि फ्लिपकार्ट जैसी कंपनियों के फ्रॉड का शिकार आगे से कोई न बन सके।

प्रेस वार्ता के दौरान अभिनव बंसल के पिता कवि और मीडिया समन्वयक कुमार ललित भी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *