आगरा: पेंशनर डाकघर के माध्यम से ई-जीवन प्रमाण-पत्र भरें

Press Release

आगरा: मुख्य कोषाधिकारी ने कोषागार आगरा से पेंशन प्राप्त करने वाले समस्त पेंशनरों को सूचित किया है कि कोविड-19 महामारी को देखते हुए भारत सरकार द्वारा डाकघरों के माध्यम से ई-जीवन प्रमाण-पत्र की सुविधा विकसित की गयी है। ऐसे पेंशनर जिन्हें नवम्बर तथा दिसम्बर माह में जीवित प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करना है, वे अपने नजदीकी डाकघर या क्षेत्रीय पोस्टमैन/शाखा डाकपाल से सम्पर्क करके ऑनलाइन जीवित प्रमाण-पत्र जारी करा सकते है, जो ऑनलाइन प्राप्त हो जायेगा।

बैंक सफलतापूर्वक डिजिटल जीवित प्रमाण-पत्र जारी करने हेतु ग्राहक से रू0 70 चार्ज करेगा। इसके साथ ही पेंशनर घर बैठे-बैठे ही पेंशन की धनराशि ।मचे प्रणाली के माध्यम से अपने खाते से निकाल भी सकते है।

अधिक से अधिक पेंशनर डाकघरों के माध्यम से इण्डिया पोस्ट पेमेन्ट बैंक द्वारा दी जाने वाली ई-जीवन प्रमाण-पत्र की सुविधा का लाभ उठाएं तथा नवम्बर तथा दिसम्बर माह में कोषागार में लगने वाली भारी भीड़ से स्वंय को दूर रखते हुये अपने स्वास्थ्य की भी सुरक्षा करें।

कैसे पा सकते हैं डिजिटल सर्टिफिकेट?

डिजिटल सर्टिफिकेट पाने के लिए पेंशनरों को एक खास ‘प्रमाण आईडी’ बनानी होगी. यह विशिष्ठ आईडी होती है. यानी हर एक पेंशनर के लिए यह अलग-अलग होती है. पेंशनर इसे अपने आधार नंबर और बायोमेट्रिक्स का इस्तेमाल करके बना सकते हैं. पहली बार इस आईडी को जनरेट करने के लिए पेंशनर स्थानीय सिटीजन सर्विस सेंटर जा सकते हैं. पेंशनभोगी को आधार नंबर, मोबाइल नंबर, पेंशन पेमेंट ऑर्डर (पीपीओ) नंबर और पेंशन खाता संख्या के अलावा अंगुली के निशान देने होंगे. सफल वेरिफिकेशन के बाद मोबाइल नंबर पर एक एसएमएस एकनॉलेजमेंट भेजा जाता है. इसमें प्रमाण आईडी शामिल होती है.

डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट कहां देना होगा?

डिजिटल लाइफ सर्टिफिकेट बन जाने के बाद इसे पेंशन बांटने वाली एजेंसी के पास नहीं जमा करना है. जीवन प्रमाण पोर्टल ( https://jeevanpramaan.gov.in) के जरिये यह काम आप डिजिटली कर सकते हैं. एजेंसी भी पोर्टल से लाइफ सर्टिफिकेट हासिल कर सकती हैं. पेंशनर एंड्रॉयड फोन पर उमंग ऐप या पीसी पर विंडोज के जरिये भी सर्टिफिकेट जेनरेट कर सकते हैं.

डोरस्टेप सुविधा भी है उपलब्ध

जो वरिष्ठ नागरिक बैंक शाखा जाने में असमर्थ हैं, उन्हें पेंशन बांटने वाली एजेंसियां आधार आधारित प्रमाणीकरण के लिए डोरस्टेप सेवाएं देती हैं. इस प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाने के लिए कई बैंक जीवन प्रमाण पत्र शिविरों का आयोजन करते हैं.

यह बात ध्यान देने वाली है कि प्रमाण आईडी जीवनभर वैध नहीं रहती है. पेंशन मंजूर करने वाली अथॉरिटी ने डिजिटल सर्टिफिकेट की वैधता अवधि के नियम बनाए हैं.

up18news

Leave a Reply

Your email address will not be published.