तेज गति से वाहन चलाने के लिए मैं भी जुर्माना भर चुका हूं: नितिन गडकरी

Updated 10 Sep 2019

मुंबई। देश में संशोधित मोटर व्‍हीकल एक्‍ट के नए प्रावधान लागू होने से ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर लगने वाले जुर्माने की राशि में भारी बढ़ोत्तरी के कारण हो रही आलोचनाओं को लेकर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने सफाई दी है।
उन्‍होंने कहा कि यातायात उल्लंघनों के लिए भारी जुर्माने से पारदर्शिता आयेगी, भ्रष्टाचार नहीं।
उन्‍होंने कहा कि तेज गति से गाड़ी चलाने के कारण उनका, सीएम देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय मंत्री वी के सिंह का भी चालान कट चुका है।
मुंबई में आयोजित एक कार्यक्र के दौरान नितिन गडकरी ने बताया, ‘बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर तेज गति से वाहन चलाने के लिए मैं भी जुर्माना भर चुका हूं। फड़णवीस, जनरल वी के सिंह को तेज गति से वाहन चलाने के लिए चालान मिला है।’ उन्‍होंने दावा किया कि ट्रैफिक उल्लंघनों के लिए भारी जुर्माने से पारदर्शिता आएगी, भ्रष्टाचार नहीं। गडकरी ने कहा, ‘संशोधित मोटर व्‍हीकल कानून लागू किया जाना हमारी सरकार की बड़ी उपलब्धि है। भारी जुर्माने से पारदर्शिता आएगी और न कि भ्रष्‍टाचार। देश में तेजी से हो रही सड़क दुर्घटनाओं के लिए सड़क इंजिनियरिंग और ऑटो इंजिनियरिंग भी जिम्‍मेदार है।’
बता दें कि ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन पर लगने वाले जुर्माने की राशि में भारी बढ़ोत्तरी से लोगों में भी खासी बैचनी है। लोग समझ नहीं पा रहे कि नियम का उल्लंघन होने पर तो उनका चालान कटेगा ही, लेकिन चालान से बचने के लिए कौन-कौन से दस्तावेज साथ लेकर चलें। कौन से कागजात घर पर रख सकते हैं?
‘दिल्ली में ट्रैफिक चालान की संख्या में कमी आई’
हालत यह है कि सितंबर 1 से मोटर व्‍हीकल एक्ट लागू होने के बाद से दिल्ली में ट्रैफिक चालान की संख्या में कमी आई है। यातायात नियमों के कड़ाई से पालन के कारण जुर्माने की राशि में बढ़ोत्तरी हुई है जिससे पिछले महीने तक 16,788 प्रतिदिन औसतन कटे चालान की तुलना में अब यह संख्या 4,813 ही रह गई है।
एक्ट लागू होने से पहले कमर्शल वाहनों पर सबसे ज्यादा चालान जारी किए जाते थे। वाहन मालिकों और ड्राइवर की सतर्कता के साथ-साथ पड़ोसी राज्यों में चेकिंग की वजह से यह अब काफी कम हो गई है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि बड़ी संख्या में कॉमर्शियल वाहनों के मालिकों अपने डॉक्युमेंट्स को अपडेट करने में भी लगे हुए हैं।
-एजेंसियां



Free website hit counter