आगरा: पुलवामा कांड की बरसी पर कांग्रेसियों ने शहीद की पत्नियों को किया सम्मानित

Updated 16 Feb 2020

आगरा। पुलवामा कांड की बरसी के अवसर पर कांग्रेस पार्टी कार्यकर्ताओं की ओर से सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। समारोह में लगभग 150 से अधिक महिलाओं को सम्मानित किया गया जिसमे शहीदों की पत्नियां और वृद्ध एवं गरीब विधवा महिलाएं शामिल थी।

शहीद स्मारक संजय पैलेस पर आयोजित हुए इस सम्मान समारोह में देश पर अपनी जान कुर्बान करने वाले वीर सपूतों की विधवा पत्नी और वृद्ध व गरीब विधवा महिलाएं शामिल हुई तो वहीं कांग्रेस कार्यकर्ता भी इस कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर पहुँचे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सम्मना समारोह की शुरुआत से पहले शहीदों को नमन कर उन्हें श्रद्धांजलि देकर की। इस कार्यक्रम में विधायक सोहेल अंसारी मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे। विधायक सोहेल अंसारी के साथ वरिष्ठ कांग्रेसियों ने पहले शहीदों की पत्नियों को सम्मानित किया और उसके बाद वृद्ध व गरीब विधवा महिलाओं को भी शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया। इस दौरान शहीदों की पत्नियों की आँखों से आंसू छलक उठे तो वृद्ध व गरीब विधवा महिलाओं ने कांग्रेस के इस पुनीत कार्य की सराहना की।

कांग्रेस विधायक सोहेल अंसारी का कहना था कि कांग्रेस पार्टी शुरू से ही महिलाओं के सम्मना के हक में रही है। पार्टी की ओर से हमेशा से इस तरह के कार्यक्रम होते रहे है। आज शहीदों की पत्नियों को सम्मानित कर मैं अपने आप को गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं लेकिन उन्हें नाराजगी भी है कि देश पर जान न्यौछावर करने वाला कौशल रावत की शहादत पर सरकार ने जो वायदे किये वो आज तक पूरे नही हो पाए है।

वरिष्ठ कांग्रेसी भारत भूषण गप्पी का कहना है कि इस आयोजन के माध्यम से शहीदों के परिजनों के प्रति अपनी संवेदनाए व्यक्त की गई है और उन्हें इस बात का अहसास दिलाया गया है कि वो अकेले नहीं है। वरिष्ठ कांग्रेसी राम टंडन ने कहा कि आज भी हम शहीदों के सम्मान की परंपरा जारी रखे हुए है।

मौके पर मौजूद जिला अध्यक्ष मनोज दीक्षित व शहर अध्यक्ष देवेंद्र सिंह चिल्लू का कहना था कि इस पुनीत कार्य को पुलवामा में शहीद हुए वीर जवानों की स्मृति में किया गया है। पूरे कार्यक्रम के संयोजक अनवार सिद्की का कहना है कि कांग्रेस हमेशा से ही महिलाओं के हक के लिए लड़ाई लड़ते आई है। विगत कई वर्षों से शहीदों की याद में वे इस कार्यक्रम को करते आ रहे हैं। इस कार्यक्रम के माध्यम से देश सेवा का अवसर मिलता हैं वही शहीदों के परिजनों के प्रति जिम्मेदारी का अहसास भी होता है।

इस दौरान पार्षद शिरोमणि सिंह, गोपाल गुरु, अजय वाल्मीक, प्रेम कुमार, दानिश, माया माहौर, मौलाना इरशाद, नन्दलाल भारती, अदनान कुरैशी अशरफी लाल, अमित सिंह आदि मौजूद रहे।




Free website hit counter