आगरा: लॉक डाउन के चलते घर के सदस्यों को ही चंदन लगाकर किया हिन्दू नववर्ष का स्वागत

Updated 25 Mar 2020

आगरा। हिन्दू नववर्ष और पहले नवरात्र को लोगों ने शांति के साथ घरों के अंदर ही मनाया। पूरा देश लॉक डाउन होने के कारण लोग हिन्दू नववर्ष की परंपरा को सभी लोगों के साथ नहीं मना पाए। लोगों ने अपने घर में ही परिजनों को तिलक करके हिन्दू नववर्ष मनाया तो पहले नवरात्रे की पूजा आराधना भी घरों में ही की। लॉक डाउन के चलते लोग घरों से बाहर नहीं निकले।

भारतीय किसान संघ के पदाधिकारियों ने भी हिन्दू नववर्ष को अपने अपने घरों में मनाया। भारतीय किसान संघ के प्रांत अध्यक्ष मोहन सिंह चाहर ने भी चैत्र शुक्ल प्रतिपदा विक्रम संवत 2077 नववर्ष और नवरात्रि के प्रथम दिन देवी माता के समक्ष पांच दीपक जलाकर माँ दुर्गा की पूजा आराधना की और कोरोना महामारी को भारत एवं विश्व से खत्म कर देशवाशियों के स्वस्थ रखने की प्रार्थना की।

मोहन सिंह चाहर का कहना था कि कोरोना के कारण देश में लॉक डाउन है। इसका सम्मान करते हुए नववर्ष गाँव बिलासगंज स्थित अपने घर पर ही मनाया और अपने परिवार के सदस्यों के चंदन के टीके लगाकर नववर्ष एवं नवरात्रि की शुभकामनाएं दीं।

भाजपा बृजक्षेत्र मीडिया संपर्क प्रमुख के के भारद्वाज ने भी लॉक डाउन की बंदिशों के बीच हिंदू नव वर्ष, विक्रम संवत 2077 के आगमन पर सार्वजनिक के बजाय परिवार के सदस्यों के चंदन टीका लगाकर हिन्दू नवबर्ष मनाया और इस परंपरा को जारी रखा।

भाजपा बृजक्षेत्र मीडिया संपर्क प्रमुख के के भारद्वाज ने बताया चैत्र प्रतिपदा नव संवत्सर के उपलक्ष में प्रतिवर्ष अलबतिया सड़क पर आने जाने वाले सैकड़ों लोगों के चंदन टीका लगाकर हिंदू नव वर्ष की बधाइयां देने का कार्य विगत 18 बर्ष से निरन्तर जारी था लेकिन लॉक डाउन की बन्दिशों के कारण बगैर लक्ष्मण रेखा पार किये अपने परिवार के सदस्यों के माथे पर चंदन टीका लगाकर हिन्दू नव वर्ष मनाने की परंपरा निभाई।




Free website hit counter