गुजरात में चक्रवाती तूफान वायु: सेना को निर्देश जारी

Updated 11 Jun 2019

अहमदाबाद। अरब सागर में पैदा हुए डिप्रेशन ने अब चक्रवाती तूफान ‘वायु’ का रूप ले लिया है, मौसम विभाग के मुताबिक 24 घंटे महत्‍वपूर्ण  हैंं और इसके 13 जून की सुबह तक गुजरात पहुंचने की संभावना है। वायू को लेकर मौसम विभाग ने गुजरात के तटीय इलाकों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। वहीं इस तूफान की गंभीरता को समझते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने भी एक उच्च स्तरीय बैठक की।
 
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज यानी मंगलवार को चक्रवाती तूफान वायू से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए संबंधित राज्य और केंद्रीय मंत्रालयों/एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा के लिए एक उच्च स्तरीय बैठक की। गृह मंत्रालय ने वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिया है कि इस संभावित तूफान से नागरिकों को नुकसान न पहुंचे। 24 घंटे अधिकारी कंट्रोल रूम के जरिए चक्रवाती तूफान पर नजर बनाए रखें। नेवी, सेना और वायुसेना के हेलीकॉप्टर को सतर्क मोड़ पर रहने को कहा है।
 
मौसम विभाग ने गुजरात के तटीय इलाकों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। चक्रवात की वजह से करीब 135 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की संभावना है। माना जा रहा है कि तूफान मानसून की रफ्तार पर भी प्रभाव डाल सकता है।
 
आईएमडी अहमदाबाद के निदेशक जयंत सरकार ने चक्रवाती तूफान के बारे में बताया था कि चक्रवाती वायू सौराष्ट्र के तटीय इलाकों के आसपास से भी गुजर सकता है, क्योंकि यह बेहद तीव्र चक्रवाती तूफान है। हमने मछुआरों और सिग्नल नंबर 2(सभी जहाजों से बंदरगाह छोड़ने के लिए कहना) दे दिया है। इस चक्रवात की वजह से गुजरात में मानसून के दस्तक देने में भी कुछ देर हो सकती है।
 
गुजरात सरकार सावधान
गुजरात पर मंडरा रहे वायु नामक चक्रवात के खतरे को देखते हुए समुद्र से सभी मछुआरों को बाहर बुला लिया है। एनडीआरएफ व सेना के जवानों को तटीय इलाकों में तैनात कर दिया है। मुख्‍यमंत्री रुपाणी ने निचले इलाकों से लोगों को हटाने के साथ मंत्रीयों को भी प्रभावित इलाकों में रहने को कहा है।
 
मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी ने मंगलवार को गांधीनगर में मुख्‍य सचिव, पुलिस महानिदेशक, सेना व आपदा प्रबंधन के अधिकारियों के साथ बैठक कर समु्द्र तटीय जिलों भावनगर, अमरेली, गीर सोमनाथ, जूनागढ,पोरबंदर व जामनगर के लिए राहत एवं आपदा प्रबंधन की तैयारियों का जायजा लिया।
 
रुपाणी ने आगामी 48 घंटे के दौरान चक्रवात के खतरे को देखते हुए सभी जिला कलेकटर, कर्मचारी व जवानों के अवकाश रद्द कर दिए हैं। वहीं 12 व 13 जून को स्‍कूल, कॉलेज व आंगनवाडी केंद्रों में छुट्टी रखने के आदेश दिए हैं। बताया गया कि जल,थल व वायू सेना के अधिकारियों के साथ भी संपर्क में हैं, जरूरत हुई तो उनकी भी मदद ली जाएगी।
 
अगले 24 घंटों में और भी खतरनाक हो सकता ‘वायु’ चक्रवात
मौसम विभाग ने मंगलवार को अलर्ट जारी करते हुए बताया कि अरब सागर में कम दबाव का क्षेत्र बनने के कारण चक्रवात वायु तेज हो गया है। चक्रवात नॉर्थ वेस्ट अमीनदीवी(लक्षद्वीप) से 380 किलोमीटर, साउथ वेस्ट मुंबई (महाराष्ट्र) में 630 किलोमीटर और वेरावल (गुजरात) के साउथ में 780 किलोमीटर दूरी पर है। यह काफी रफ्तार से साथ उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ रहा है। अगले 24 घंटे और भी खतरनाक हो सकता है।
 
बता दें कि चक्रवाती तूफान ‘वायु’ लगातार उत्तर और उत्तर-पश्चिम दिशा में गुजरात की ओर बढ़ रहा है। लक्षद्वीप के दक्षिणपूर्व और पूर्व-मध्य अरब सागर में बने डिप्रेशन की वजह से गुजरात में भारी बारिश की संभावना जताई जा रही है। इसकी वजह से केरल के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश देखने को मिल सकती है, जबकि कर्नाटक के तटीय इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।
 
जानकारी के मुताबिक गर्म समुद्री हवाओं की वजह से कम दबाव वाले क्षेत्रों ने सोमवार को डिप्रेशन का रूप ले लिया और मंगलवार सुबह तक चक्रवात में तबदील हो गया है। इस चक्रवात का नाम ‘वायु’ रखा गया है, जो की भारत द्वारा दिया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार तक ‘वायु’ तूफान अपने चरम पर होगा और इसकी रफ्तार 135 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की होगी।
 
मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक केरल तट, लक्षद्वीप और उससे लगे दक्षिणपूर्व अरब सागर में नहीं जाने की सलाह दी गई है। विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के मुताबिक, 11 जून को लक्षद्वीप और पूर्व-मध्य अरब सागर में ऊंची-ऊंची लहरें उठने की संभावना है।
 
-एजेंसी



Free website hit counter