भारत और अमेरिका के बीच ट्रेड डील जल्‍द, बातचीत जारी

Updated 07 Oct 2019

नई दिल्‍ली। भारत और अमेरिका के बीच Trade डील को लेकर बातचीत सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ रही है। दोनों देशों ने व्यापार को आगे बढ़ाने में रुचि दिखाई। उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में दोनों देश एक-दूसरे को ज्यादा सामान निर्यात करेंगे। साथ ही भारत अमेरिका से आयातित हाइब्रिड बाइक पर लगने वाला टैक्स भी घटा सकता है।
व्यापार बढ़ाने पर जोर
दोनों देश के प्रतिनिधि आयात टैक्स घटाने के साथ-साथ Trade वॉल्यूम बढ़ाने को लेकर सहमति बनाने पर जुटे हुए हैं। पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की मुलाकात हुई थी। इस मुलाकात के दौरान इस दिशा में सकारात्मक बातचीत हुई थी। अमेरिका ने 5 जून को भारत से जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंसेज (GSP) का दर्जा छीन लिया था। अब ऐसी उम्मीद की जा रही है कि एक बार फिर भारतीय निर्यातकों को इस प्रोग्राम के तहत लाभ मिल सकेगा।
मेडिकल इक्विपमेंट्स का भारत बड़ा निर्यातक
भारत बड़े पैमाने पर अमेरिका को हार्ट स्टेंट और नी-इंप्लांट इक्विपमेंट्स निर्यात करता था लेकिन अमेरिका ने इस पर प्राइस कंट्रोल किया। सूत्रों से जानकारी मिली है कि अब इन मेडिकल इक्विपमेंट्स के निर्यात को लेकर बातचीत अंतिम चरण में है। माना जा रहा है कि वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल और अमेरिकी प्रतिनिधि रॉबर्ट लाइटहाइजर बहुत जल्द Trade डील को लेकर घोषणा कर सकते हैं।
GSP दर्जा वापस करने पर विचार
खबर यह भी है कि अमेरिका एक बार फिर भारत को जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंसेज (GSP)का दर्जा वापस दे सकता है, जिसका फायदा कुछ भारतीय निर्यातकों को होगा। डोनल्ड ट्रंप ने भारत से यह दर्जा जून 2019 में वापस ले लिया था।
कृषि उत्पाद के आयात-निर्यात पर भी बातचीत
कृषि उत्पादों के आयात और निर्यात को लेकर भी ऐलान संभव है। अमेरिका भारत से आयात होने वाले आम और अनार को अपने बाजार में आने की इजाजत देगा, बदले में भारत भी अमेरिका से आयात होने वाले अल्फाल्फा को अपने बाजार में कम टैक्स देकर बेचने की इजाजत देगा। ट्रेड डील को लेकर भारत और अमेरिका के बीच बातचीत पिछले तीन महीनों से जारी है। दोनों देश के प्रतिनिधियों ने एक-दूसरे की समस्याओं पर गंभीरता से विचार कर रहे हैं।
आतंकवाद और J&K के मुद्दे पर भारत को अमेरिका का सहयोग
ट्रेड डील के अलावा अमेरिका के साथ आतंकवाद, जम्मू-कश्मीर, न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप (NSG) ग्रुप का सदस्य बनाने जैसे तमाम मसले पर बातचीत हो रही है। भारतीय प्रतिनिधियों के हवाले से सूत्रों के मुताबिक, अमेरिका इन तमाम मुद्दों पर भारत की हरसंभव मदद कर रहा है।
-एजेंसियां



Free website hit counter