यूएस की सबसे बड़ी डील, रेड हैट को 2.34 लाख करोड़ में खरीदेगी आईबीएम

Updated 10 Jul 2019

वॉशिंगटन। यूएस की सबसे बड़ी डील करने वाली आईटी कंपनी आईबीएम कंपनी अब सॉफ्टवेयर फर्म रेड हैट को 34 अरब डॉलर (2.34 लाख करोड़ रुपए) में खरीदेगी। बड़ी डील करने वाली आईबीएम व रेड हैट दोनों ही अमेरिका की कंपनियां हैं।
 
आईबीएम की ओर से जारी विज्ञप्‍ति में बताया गया कि वह रेड हैट के अधिग्रहण के करीब है। इससे कंपनी का क्लाउड कंप्यूटिंग बिजनेस बढ़ेगा। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक आईबीएम के 108 साल के इतिहास में यह उसका सबसे बड़ा अधिग्रहण होगा।
 
रेड हैट की लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम्स में विशेषज्ञता
रेड हैट की डील के लिए आईबीएम को मई में अमेरिकी रेग्युलेटर्स और जून में यूरोपियन यूनियन के रेग्युलेटर्स से मंजूरी मिल गई। 1993 में स्थापित रेड हैट लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम्स की विशेषज्ञ है। यह सबसे ज्यादा प्रचलित ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर है और माइक्रोसॉफ्ट के सॉफ्टवेयर का विकल्प है।
 
आईबीएम की सीईओ गिन्नी रोमेटी ने कंपनी को ट्रेडिशनल हार्डवेयर प्रोडक्ट की बजाय तेजी से बढ़ते क्लाउड, सॉफ्टवेयर और सर्विसेज सेगमेंट में आगे ले जाने पर फोकस किया है। वे 2012 में सीईओ बनी थीं। हालांकि, आईबीएम का नए क्षेत्रों में फोकस करना हर बार निवेशकों को आकर्षित नहीं कर पाया। कंप्यूटर हार्डवेयर बिजनेस से ट्रांजिशन के दौरान कई साल तक कंपनी के रेवेन्यू में भी गिरावट आई थी।
 
हालांकि, 2013 की तुलना में आईबीएम के कुल रेवेन्यू में क्लाउड रेवेन्यू की हिस्सेदारी अब 25 गुना बढ़ चुकी है। इस साल की जनवरी-मार्च तिमाही के आखिर तक क्लाउड रेवेन्यू 19 अरब डॉलर के ऊपर पहुंच गया।
 
आईबीएम की डील पूरी होने के बाद रेड हैट के सीईओ जिम वाइटहर्स्ट और उनकी टीम कंपनी में बनी रहेगी। जिम आईबीएम के सीनियर मैनेजमेंट में शामिल होंगे और गिन्नी रोमेटी को रिपोर्ट करेंगे। आईबीएम रेड हैट का मुख्यालय नॉर्थ कैरोलिना के राले में ही बनाए रखेगी।
 
-एजेंसी



Free website hit counter